उत्तर प्रदेश के सीतापुर के सदर थाना क्षेत्र में शौहर के साथ विवाद के बाद बुआ के घर जाना एक महिला के लिए मुसीबत बन गया और उसका समाज के अन्य लोगों के साथ हुक्का पानी बंद करने का फरमान मौलानाओं ने सुना दिया. यही नहीं मौलानाओं के फरमान से महिला और उसके भाई के सम्मान को ठेस पहुंची और लोग उन्हें गलत नजरों से देखने लगे. जिसके बाद महिला ने पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई और इस मामले में दो मौलानाओं को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पीड़िता का कहना है कि उसकी शिकायत के 13 दिन के बाद पुलिस ने मौलानाओं को गिरफ्तार किया गया है.
असल में एक महिला का अपने पति के साथ विवाद हो गया था और बहन भाई के साथ चली और बुआ के घर रहने लगी. इसके बाद मौलाना ने ये कह कर दोनों का हुक्का पानी बंद करने का फरमान सुनाया कि बहन अपने भाई के साथ भागी है. वहीं पीड़िता का कहना है कि उसकी शिकायत के 13 दिन बाद सदरपुर पुलिस ने दो मौलाना के खिलाफ मामला दर्ज करने के बाद आरोपी को गिरफ्तार किया गया है.
पति से नाराज हो कर गई थी बुआ के घर
मामला सीतापुर के सदरपुर थाना क्षेत्र के एक गांव का है और जहां गांव की एक महिला ने थाने में शिकायत देकर बताया है कि 8 नवंबर की सुबह उसके पति के साथ किसी बात को लेकर बहस हो गई. वह नाराज हो गई और जहांगीराबाद में अपनी बुआ के घर चली गई और वहीं रहने लगी. दो दिन बाद जब उसकी मां और भाई आए तो महिला अपनी मां और भाई के साथ अपनी बुआ के घर जहांगीराबाद से मोटरसाइकिल पर अपने घर आई. इसके बाद मौलाना ताहिर पुत्र जैनबदीन और मौलाना गुफरान पुत्र अब्दुल हक ने बिरादरी में यह कहकर हुक्का और पानी बंद कर दिया कि महिला अपने भाई के साथ भाग गई है. पीड़ित महिला ने कहा है कि बिरादरी में मानहानि हुई है और मौलवियों द्वारा फैलाई गई झूठी अफवाहों के कारण उसकी बिरादरी ने उसका हुक्का और पानी बंद कर दिया. जबकि इसमें सच्चाई नहीं है. महिला का आरोप है कि दोनों मौलाना ने उसे उसके भाई को समाज और बिरादरी में बदनाम किया है.
दो मौलाना गिरफ्तार
वहीं सदर के एसएओ अमित भदौरिया का कहना है तहरीर सदरपुर क्षेत्र के एक गांव की महिला की ओर से दी गई है और आरोपी मौलाना के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया था. अब महिला की शिकायत पर मौलाना ताहिर और मौलाना गुफरान को गिरफ्तार कर लिया गया है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.