बुलंदशहर: खबर उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले से है। यहां विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश के वन, पर्यावरण व जलवायु परिवर्तन राज्यमंत्री अनिल शर्मा को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, शिकारपुर से बीजेपी विधायक और राज्यमंत्री अनिल शर्मा के खिलाफ फर्जी दस्तावेज तैयार कर करोड़ रुपए की जमीन हड़पने के मामल में परिवाद दर्ज किया गया है। एमपी एमएलए कोर्ट ने राज्यमंत्री अनिल शर्मा को 10 नवंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश दिए है।
राज्यमंत्री अनिल शर्मा के खिलाफ यह परिवाद फर्म वैष्णों इंफ्राहोम्स प्राइवेट लिमिटेड की ओर से दर्ज कराया गया है। फर्म के निदेशक पंकज अग्रवाल ने बताया कि बुलंदशहर में कब्रिस्तान के सामने डीएम रोड पर करोड़ों की संपत्ति पर काफी समय से विवाद चल रहा है। संपत्ति के मालिकों ने उनकी फर्म के तीन निदेशकों के नाम बैनामा किया था। आरोप है कि मंत्री ने पुराने बैनामे की आड़ में यह खेल किया है। दरअसल, संपत्ति में से 980 वर्ग गज मंत्री की परदादी स्वर्गीय पानो देवी के नाम से खरीदी गई थी। इसे बाद में बेच दिया गया। इसके बैनामे में अनिल शर्मा गवाह थे।
पंकज का आरोप है कि मंत्री एवं शिकारपुर से भाजपा विधायक अनिल शर्मा ने संपत्ति में से 2405.59 वर्ग गज जमीन खुद की बताकर प्रशासन को पत्र लिखा है। इसी जमीन के फर्जी कागजात तैयार किए गए हैं। सुनवाई के बाद एमपी एमएलए विशेष कोर्ट ने मामले को गंभीर माना और परिवाद के रूप में दर्ज कर लिया। राज्यमंत्री को 10 नवंबर को न्यायालय में पेश होने का आदेश दिया। आरोप लगाने वाले पंकज अग्रवाल ने सीएम से भी शिकायत कर न्याय की गुहार लगाई है।
वहीं, भाजपा विधायक अनिल शर्मा के खिलाफ परिवाद दर्ज होने से जिले की राजनीति गरमा गई है। वन, पर्यावरण व जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री अनिल शर्मा ने बताया कि यह जमीन उनकी परदादी के नाम पर अभिलेखों में दर्ज है। प्रकरण में डीएम के माध्यम से जांच पूर्व में कराई जा चुकी है। परिवादी पक्ष के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज है। कोर्ट में हम अपना पक्ष रखेंगे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.