दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल अयोध्या दौरे पर हैं. केजरीवाल ने आज सुबह हनुमानगढ़ी और रामलला के दर्शन किए. दर्शन के बाद केजरीवाल ने बड़ा एलान भी किया. पत्रकारों के साथ बातचीत में केजरीवाल ने कहा कि अगर यूपी में हमारी सरकार बनती है तो प्रदेश के सभी लोगों को अयोध्या में रामलला के मुफ्त में दर्शन कराएंगे.
केजरीवाल ने कहा कि आज मुझे भगवान के दर्शन करने का सौभाग्य मिला और मैं चाहता हूं कि हर भारतवासी को ये सौभाग्य मिले. केजरीवाल ने कहा कि हम दो काम करने वाले हैं. पहला हम दिल्ली के अंदर मुख्यमंत्री तीर्थ योजना चला रहे हैं. इसके तहत लोगों को मुफ्त तीर्थ यात्रा कराई जाती है. कल सुबह दिल्ली कैबिनेट की विशेष बैठक बुलाई है. बैठक में हम अयोध्या को भी मुख्यमंत्री तीर्थ योजना में शामिल करेंगे. अब दिल्ली के लोग रामजन्मभूमि के भी मुफ्त दर्शन करेंगे. वहीं, अगर यूपी में हमारी सरकार बनी तो हम सभी प्रदेशवासियों को अयोध्या में रामलला के मुफ्त दर्शन कराएंगे.
इससे पहले केजरीवाल ने सोमवार को सरयू नदी के तट पर वैदिक मंत्रों और भजनों के बीच सरयू की ‘आरती’ की और मां सरयू, भगवान श्रीराम तथा देवताओं से दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश और पूरे देश के कल्याण की कामना की. इस मौके पर केजरीवाल ने कहा, “मां सरयू नदी से दिल्‍ली, उत्तर प्रदेश और पूरे भारत वर्ष के कल्‍याण के लिए प्रार्थना करता हूं. पूरा देश कोरोना नाम की महामारी से पीड़ित है, पिछले कुछ दिनों से कुछ नियंत्रण है, लेकिन मैं समझता हूं कि भगवान राम, देवताओं की और मां सरयू नदी की कृपा होगी तो जरूर हम सब लोगों को इस महामारी से मुक्ति मिलेगी.”

उन्होंने कहा, “आज अयोध्या आने का सौभाग्य मिला और इस अवसर पर मैं सभी देवताओं से हाथ जोड़कर विनती करता हूं कि देश को महामारी से मुक्ति मिले.” केजरीवाल ने आगे कहा, “मैं हमेशा मानता हूं कि हमारे देश के लोग बहुत अच्छे हैं, हमारे देश को अभी तक बहुत आगे पहुंच जाना चाहिए था, दुनिया का नंबर एक देश बनना चाहिए था लेकिन आज हमारे देश के अंदर गरीबी है, आज हमारे देश के अंदर अशिक्षा है, तरह-तरह की बीमारियां हैं, भिन्‍न-भिन्‍न समस्याएं हैं. मैं सभी देवताओं से प्रार्थना करता हूं कि मेरा भारत वर्ष जल्‍दी दुनिया का नंबर वन देश बने और हम 130 करोड़ भारतवासी मिलकर इसको संभव कर सकते हैं.”
उन्होंने कहा, “मैं उम्र और अनुभव में छोटा हूं लेकिन मेरा दिल्‍ली सरकार चलाने का जो पांच साल का अनुभव है, उससे लगता है कि अगर सब लोग मिलकर एक परिवार की तरह, एक टीम की तरह एक साथ काम करें, अपने बीच की दीवारों और भेदभाव को गिराकर एक साथ काम करें तो इस देश को दुनिया की शक्ति बनाने से कोई नहीं रोक सकता है. यह संभव है और दिल्ली के अंदर स्कूल, अस्पताल, पानी और सड़कों के लिए यह करके दिखाया है.”

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.