लखनऊ: उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों (uttar pradesh assembly election 2022) को लेकर सभी पार्टियों ने कमर कस ली है. इसी क्रम में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Congress General Secretary Priyanka Gandhi Vadra) ने सोमवार को उत्तर प्रदेश कांग्रेस सलाहकार परिषद (up congress advisory council) और रणनीतिक ग्रुप के साथ ऑनलाइन बैठक की. इसमें उन्होंने आगामी यूपी विधानसभा चुनावों के लिए रणनीति बनाने और संगठन की गतिविधियों में तेजी लाने को लेकर चर्चा की. इस बैठक में प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, प्रमोद तिवारी, सलमान खुर्शीद, पीएल पुनिया, राकेश सचान और हरेंद्र मलिक जैसे वरिष्ठ नेता मौजूद रहे.
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Congress General Secretary Priyanka Gandhi Vadra) ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस सलाहकार परिषद व रणनीतिक ग्रुप की बैठक में महंगाई, कोरोना, पंचायत चुनावों और संगठन के प्रशिक्षण शिविर को लेकर चर्चा की. बैठक के दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि बढ़ती महंगाई से जनता परेशान है. पेट्रोल-डीजल, सरसों तेल, फल-सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं. प्रियंका गांधी ने कहा कि छुट्टा जानवरों की समस्या से किसान बेहाल हैं. खेती की लागत दुगनी हो गई है, लेकिन आय घट गई है.
बैठक के दौरान प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव और ब्लॉक प्रमुख चुनावों में हुई हिंसा को लेकर भाजपा पर निशाना साधा. उन्होंने कहा इन चुनावों में खुलेआम हिंसा हुई. भाजपा कार्यकर्ताओं ने हिंसा करते हुए बम, पत्थर और गोलियां चलाईं.
इस दौरान उत्तर प्रदेश कांग्रेस सलाहकार परिषद एवं रणनीतिक ग्रुप की बैठक में सदस्यों ने कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार हर मुद्दे पर विफल है. इस दौरान फैसला लिया गया कि महंगाई, बेरोजगारी और प्रदेश में व्याप्त जंगलराज के खिलाफ यूपी कांग्रेस सड़कों पर और भी अधिक मजबूती से उतरेगी.
यूपी जिला पंचायत चुनाव में कांग्रेस का प्रदर्शन भले ही उम्दा नहीं रहा हो, लेकिन आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है. इसी क्रम में कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में ब्लॉक और न्याय पंचायत स्तर पर संगठन का गठन करने के बाद अब पार्टी को बूथ लेवल पर मजबूत करने की कवायद में शुरू कर दी है. बीजेपी की तर्ज पर बूथ मैनेजमेंट के लिए कांग्रेस ने ब्लॉक अध्यक्षों, जिला-शहर अध्यक्षों और राज्य के अधिकारियों के लिए प्रशिक्षण शिविर आयोजित किए थे. ये प्रशिक्षण शिविर 10 जुलाई को खत्म हुए है. इस प्रशिक्षण शिविर में संगठन को मजबूत करने, बूथ निर्माण और कई सोशल मीडिया अभियानों पर चर्चा करने पर फोकस किया गया था.
बता दें कि रविवार को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दिल्ली में प्रियंका गांधी से मुलाकात की थी. मुलाकात के बाद बघेल ने ढाई-ढाई साल के सीएम के सवाल पर पत्रकारों से कहा था कि ये हाईकमान तय करेंगे.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.