गाजीपुर: देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के राजनीतिक सफर में उनकी मानवता के कई पहलू देखने को मिले हैं. राजनाथ सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं. इस दौरान उन्होंने कई लोगों की जिंदगी बनाने में अहम योगदान दिया है. ऐसे ही उनके एक मानवीय पहलू की चर्चा हो रही है. मामला बीस साल पुराना है, जब उन्होंने पिता को खोने वाले एक प्रतिभाशाली दलित युवा बृजेंद्र की शिक्षा की जिम्मेदारी ली थी. 19 साल बाद अब जब उसकी शादी हुई, तो रक्षा मंत्री की जिम्मेदारी निभा रहे राजनाथ सिंह ने शादी समारोह में पहुंचकर वर वधू को आशीर्वाद दिया. यह शादी गाजीपुर जिले के उसके पैतृक गांव में हुई.
बिजेंद्र का परिवार है खुश
आजमगढ़ के वीरपुर खिलवा निवासी सुशीला देवी पति के देहांत के बाद वह अपने तीनों बेटों बिजेंद्र, विपिन और मंजेश को लेकर गाजीपुर के सैदपुर अपने मायके आ गईं थीं. इसके बाद यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री रहे राजनाथ सिंह ने उनके बेट बिजेन्द्र की पढ़ाई लिखाई का पूरा जिम्मा उठाया था. अब जब 19 साल बाद अपने दत्तक पुत्र की शादी में देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पिता की भूमिका निभाई तो पूरे परिवार का चेहरा खिल गया.
पढ़ाई लिखाई का उठाया था खर्च
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने गोद लिए युवक डॉ.बिजेंद्र की शादी के मौके पर पहुंच कर वर वधू को आशीर्वाद दिया. 19 वर्ष पूर्व राजनाथ सिंह ने बिजेंद्र को गोद लिया था और उनकी शिक्षा दीक्षा के दायित्व का निर्वहन किया, जिसके फलस्वरूप बिजेंद्र आज डॉक्टर हैं और फैजाबाद के गोसाईगंज सीएचसी में एमओ के रूप में तैनात हैं. डॉ. बिजेंद्र के विवाह के अवसर पर देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पहुंचकर वर वधू को अपना आशीर्वाद दिया. इस दौरान केंद्रीय मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय भी उनके साथ मौजूद रहे.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.