उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद की सचिव ने प्रदेश के सभी पुलिस कप्तान से डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा के बीएड सत्र 2005 में फर्जी टैंपर्ड प्रमाण पत्र धारी अभ्यर्थियों की सेवा समाप्ति करने के उपरांत मुकदमा दर्ज करने के लिए शिकायत की है। आरोप है कि बेसिक शिक्षा विभाग में सहायक अध्यापक पद पर कुछ लोगों का फर्जी अंकपत्र से चयन हुआ है। इसी पर कार्रवाई की मांग की जा रही है।

गौरतलब है कि डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा के बीएड सत्र 2005 के टेबुलेशन चार्ट में 3517 छात्रों का अधिक परीक्षा परिणाम अंकित कर दिया गया तथा 1034 छात्रों की टेम्पर्ड अंक तालिका वितरित की गई। इस प्रकार कुल 4570 छात्रों को फर्जी अंकतालिका वितरित कर उनका समायोजन विश्वविद्यालय के टेबुलेशन चार्ट में किया गया, जो सेवा आयोजित है। 13 दिसंबर 2018 के दिए गए निर्देश क्रम में विश्वविद्यालय के फर्जी अभ्यर्थियों की संशोधित सीडी उपलब्ध कराते हुए बेसिक शिक्षा विभाग में सहायक अध्यापक पद पर चयनित अभ्यर्थियों पर कार्रवाई करने की मांग की गई है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.