लखनऊ: अवैध धर्मांतरण मामले में यूपी एटीएस (UP ATS) गिरफ्तार आरोपियों से लगातार पूछताछ कर रही है. गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ में नए खुलासे हुए हैं. एटीएस ने पूछताछ के दौरान उमर गौतम से कई मूक-बधिर साथियों की जानकारी हासिल की है. इसके बाद एटीएस की टीम उमर गौतम के गिरोह में शामिल अन्य मूक-बधिर साथियों की तलाश में जुट गई है. वहीं, उमर गौतम के सहयोगी राहुल भोला और मन्नू यादव उर्फ अब्दुल मन्नान से पूछताछ के दौरान कई अहम जानकारी मिली हैं.
यूपी एटीएस के अनुसार धर्मांतरण मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपी इरफान शेख, राहुल भोला व मन्नू यादव उर्फ अब्दुल मन्नान को रिमांड पर लेकर पूछताछ की गई थी. वहीं, सलाहुद्दीन अहमदाबाद निवासी और पश्चिम बंगाल निवासी जुनवेई को 7 दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है. सलाउद्दीन पर आरोप है कि वह हवाला के जरिए फंडिंग की रकम उमर गौतम तक पहुंचाता था. जिसका इस्तेमाल उमर द्वारा लोगों का धर्मांतरण कराने में किया जा रहा था.
सलाउद्दीन ने हवाला के जरिए हुई फंडिंग की कुछ अहम जानकारियां एटीएस दी हैं. एटीएस की टीम मिली जानकारियों के आधार पर इस नेटवर्क से जुड़े अन्य लोगों की तलाश के साथ छानबीन करने में जुटी है. वहीं, अब एटीएस को सलाउद्दीन से पूछताछ के बाद कुछ नये बैंक खातों की भी जानकारी प्राप्त हुई है, जिसमें उसके द्वारा रकम भी दी गई थी. एटीएस की टीम अब इसकी भी जांच-पड़ताल कर रही है.
ATS सलाउद्दीन और जुनवेई से कर रही पूछताछ
बता दें कि एटीएस की टीम ने इस्लामिक दावा सेंटर संचालक मौलाना उमर गौतम और मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी को गिरफ्तार करने के बाद साजिश के तहत एक हजार से अधिक लोगों का धर्मांतरण कराए जाने का पर्दाफाश किया था. इसके बाद से ही एटीएस की टीम उमर गौतम से पूछताछ के बाद धीरे-धीरे लगातार अन्य लोगों की गिरफ्तारी की ओर बढ़ रही है. एटीएस अब तक उमर गौतम के चार अन्य सहयोगियों को भी गिरफ्तार कर चुकी है.
एटीएस की टीम ने शुक्रवार को सलाउद्दीन और जुनवेई को 10 दिनों की रिमांड की पेशकश के लिए न्यायालय में पेश किया था. जिसमें न्यायालय द्वारा 7 दिनों की रिमांड मंजूर की गई थी. एटीएस की टीम 7 दिनों की रिमांड पर लेकर सलाउद्दीन और जुनवेई से पूछताछ कर रही है. वहीं, उमर गौतम और जहांगीर को पुलिस अभिरक्षा में जेल भेज दिया है. एटीएस रिमांड पर लिए गए आरोपियों से मिली जानकारियों के आधार पर अन्य सहयोगियों की गिरफ्तारी का प्रयास करने में जुटी हुई है.
21 जून को उमर गौतम को ATS ने किया था गिरफ्तार
एटीएस ने 21 जून को दो मुसलमान धर्मगुरुओं को साजिश के तहत हिंदुओं का धर्म परिवर्तन कराने के आरोप में गिरफ्तार किया था. इनमें से एक खुद हिंदू धर्म में पैदा हुआ था, उसने इस्लाम धर्म अपनाया था. इस्लामिक दावा सेंटर के संचालक मोहम्मद उमर गौतम और मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी को दिल्ली के जामिया नगर इलाके से गिरफ्तार किया गया था. उमर और जहांगीर न सिर्फ लालच, बल्कि डरा-धमकाकर भी धर्म परिवर्तित करवाते थे. इन दोनों ने अब तक गरीब महिलाओं के साथ मूक-मधिर गरीब बच्चों और अपाहिजों को मिलाकर 1,000 से ज्‍यादा लोगों का धर्मांतरण कराया है. इस मामले में यूपी एटीएस अब तक 6 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.