जौनपुर: पूर्वांचल के माफिया और जौनपुर के पूर्व सांसद धनंजय सिंह की पत्नी श्रीकला धनंजय सिंह उर्फ श्रीकला रड्डी ने जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर जीत हासिल की है। श्रीकला धनंजय सिंह ने 47 वोटों से जीत दर्ज कराई है, वो निर्दलीय प्रत्याशी थीं। बता दें कि आज वोटिंग से पहले बीजेपी और अपना दल ने धनंजय सिंह की पत्नी श्रीकला धनंजय सिंह को अपना समर्थन दिया था।
दरअसल, जिला पंचायत सदस्य के रूप में श्रीकला धनंजय सिंह ने जौनपुर जिले के सिकरारा विकास खण्ड के वार्ड नंबर-45 से जीत हासिल की थी। श्रीकला ने समाजवादी पार्टी के निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष राजबहादुर यादव की पत्नी राजकुमारी देवी को 11293 मतों से हराया था। श्रीकला धनंजय सिंह को कुल 14827 वोट मिले थे। जिसके बाद श्रीकला धनंजय सिंह ने जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए पर्चा दाखिल किया था।
अपना दल (एस) ने शनिवार 03 जुलाई को जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए जारी मतदान के बीच निर्दलीय प्रत्याशी श्रीकला धनंजय सिंह को अपना समर्थन दे दिया। प्रेस कांफ्रेंस कर मछलीशहर जिलाध्यक्ष लाल पटेल ने कहा कि सपा को हराने के लिए अपना दल (एस) के राष्ट्रीय नेतृत्व ने यह फैसला लिया है। इसके लिए अपना दल (एस) के प्रत्याशी सहित सभी छह जिला पंचायत सदस्यों के साथ समर्थन दिया है। बता दें कि अपना दल (एस) और भाजपा के बीच एनडीए गठबंधन के तहत जौनपुर और सोनभद्र जिला पंचायत अध्यक्ष पद की सीट को भाजपा ने अपना दल (एस) के खाते में दिया था।
निर्दलीय प्रत्याशी श्रीकला रेड्डीश्री कला धनंजय सिंह तेलंगाना की हैं। वो निप्पो बैट्री घराने की बेटी हैं। श्रीकला के पिता भी तेलंगाना के हुजूरगंज से निर्दलीय विधायक रह चुके हैं। श्रीकला के पति धनंजय सिंह साल 2002 में पहली बार रारी विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय विधायक चुने गए थे। 2007 में जनता दल यूनाइटेड से विधायक हुए। 2009 में बसपा से सांसद चुने गए। रारी सीट खाली होने पर इनके पिता राजदेव सिंह ने उपचुनाव बसपा से जीता था। इसके बाद नये परिसीमन में यह सीट मल्हनी विधानसभा में चली गई, जहां से तीन बार धनंजय सिंह चुनाव लड़ चुके हैं। लेकिन हर बार दूसरे नंबर रहे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.