बुलंदशहर। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राजस्थान के राज्यपाल रहे कल्याण सिंह की अस्थियां वैदिक मंत्रोचार के बीच शुक्रवार को नरोरा गंगा में विसर्जित की गई। आर्य समाज के आचार्यों की टोली ने वैदिक मंत्रोच्चार किया। शुक्रवार की सुबह कल्याण सिंह के पुत्र एटा सांसद राजवीर सिंह उर्फ राजू भैया,पौत्र राज्यमंत्री संदीप सिंह, सौरभ सिंह बुलंदशहर सांसद डॉ. भोला सिंह,  फर्रुखाबाद सांसद मुकेश राजपूत, डिबाई विधायक डॉ. अनीता लोधी राजपूत, स्याना विधायक देवेंद्र सिंह लोधी, नरोरा नगर पंचायत चेयरमैन विवेक वशिष्ठ सहित बड़ी संख्या में परिवारीजन अलीगढ़ से नरोरा के बसी घाट पर पहुंचे।
वैदिक मंत्रोचार के बीच सबसे पहले फूल चुने गए। पौत्र संदीप सिंह ने अंत्येष्टि स्थल पर दीप प्रज्ज्वलित किया। इसके बाद आचार्य और उपस्थित जनों ने श्रीराम नाम का संकीर्तन किया। स्टीमर में बैठकर गंगा के मध्य में जाकर अस्थियां विसर्जन कल्याण सिंह के पुत्र राजवीर सिंह ने परिवारजन और अन्य लोगों के साथ किया। अस्थियों के विसर्जन के समय राजवीर सिंह भावुक हो गए।
5 कलशों में रखीं अस्थियां 
पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की अस्थियां 5 कलशों में रखी गई हैं। उनके पुत्र राजवीर सिंह ने बताया कि एक कलश नरौरा  गंगा में विसर्जित किया गया।इसके अलावा अयोध्या, काशी और प्रयागराज में 1-1 कलश की अस्थियां विसर्जित की जाएंगी। एक अस्थि कलश कासगंज में रखा जाएगा।
21 को हुआ था निधन, 23 को हुआ अंतिम संस्कार
बुलंदशहर। पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का निधन लखनऊ में 21 अगस्त को हो गया था। 23 अगस्त को बुलंदशहर के नरोरा में बसी घाट पर गंगा किनारे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। आज नरौरा गंगा में अस्थियां विसर्जित की गई। अलीगढ़ में 1 सितंबर को अरिष्टि एवं श्रद्धांजलि सभा आयोजित होगी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.