लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यaक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यवमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को सीएम योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा व्य्वस्था पर तंज कसते हुए सवाल उठाया है। अखिलेश ने कहा कि जब 2020 में भी मुख्यमंत्री की सुरक्षा को इतना खतरा है तो अंदाजा लगाएं कि प्रदेश की जनता किस हाल में है। समाजवादी पार्टी की ओर से शनिवार को जारी एक बयान में अखिलेश यादव ने कहा है कि प्रधानमंत्री की तरह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था और ज्यादा पुख्ता कर दी गई है।
‘अंदाजा लगाएं प्रदेश की जनता किस हाल में है’
उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल से परिपत्र के जरिए प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है। इसे ‘ग्रीन बुक’ में भी दर्ज किया जाएगा। प्रधानमंत्री के सुरक्षा प्रबंधन का ब्योरा ‘ब्लू बुक’ में होता है। अखिलेश ने कहा कि उसके अध्ययन के बाद मुख्यमंत्री की ‘ग्रीन बुक’ की समीक्षा की गई है। वैसे जबसे मुख्यमंत्री सत्ता में आए हैं, बराबर उनकी सुरक्षा की समीक्षा होती रही है, लेकिन यह प्रश्न तो उठता है कि जब 2020 में भी मुख्यमंत्री की सुरक्षा को इतना खतरा है तो अंदाजा लगाएं प्रदेश की जनता किस हाल में है।
‘बीजेपी राज में रोज वही कहानी दोहराई जाती है’
अखिलेश यादव ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के राज में रोज वही कहानी दोहराई जाती है। उन्होंने कहा कि हत्या, बलात्कार, लूट की खबरों के साथ दिन की शुरुआत, शाम तक अपराध की घटनाएं और ज्यादा गहराती हैं। उन्होंाने राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की 2019 की रिपोर्ट के हवाले से बताया कि प्रदेश में अनुसूचित जाति और जनजाति उत्पीड़न संबंधी कुल मामलों में 12 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
‘सीएम को जनता के बारे में सोचने का समय नहीं’
अखिलेश ने कहा कि यूपी में महिलाओं के विरूद्ध अपराध के सर्वाधिक 59,853 मामले दर्ज हुए जिसमें 18 वर्ष से कम आयु की बच्चियों के साथ दुष्कर्म की प्रदेश में 272 घटनाएं पुलिस रिकॉर्ड का हिस्सा बनीं। 2019 में रेप के 3,065 मामले दर्ज हुए। अखिलेश ने कहा कि सीएम अपनी सुरक्षा पर ही इतना ज्यादा चिंतित है कि प्रदेश की जनता की दहशत भरी जिंदगी के बारे में सोचने का उन्हें समय ही नहीं।
‘बीजेपी के राज में भाजपाई भी असुरक्षित’
अखिलेश ने उदाहरण के साथ कहा कि बीजेपी के राज में भाजपाई नेता भी असुरक्षित हैं। अखिलेश ने कहा कि सच तो यह है कि प्रदेश में अपराधी रोज एक नया अध्याय गढ़ रहे हैं। तमाम वारदातों का पुलिंदा लेकर भाजपा सरकार मौन बैठी हुई है। कानून व्यवस्था बेलगाम है। चारों तरफ भय और आतंक है। मुख्यमंत्री के सभी दावे झूठे साबित हुए है। अपराधियों के बुलंद हौसलों के आगे सरकार नतमस्तक है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.