दुबई,02 सितंबर । मेंटल कंडीशनिंग कोच पैडी उप्टन का मानना है कि बेहतर प्रदर्शन के लिए बाहरी प्रेरणा पर निर्भर करने वाले खिलाडिय़ों को इस वर्ष के इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में वास्तव में संघर्ष करना पड़ सकता है और हाल ही में टूर्नामेंट से हटने वाले चेन्नई सुपरकिंग्स (सीएसके) के स्टार खिलाड़ी सुरेश रैना जैसी स्थिति में आगे अन्य कई खिलाड़ी भी आ सकते हैं।
सुरेश रैना आईपीएल के लिए संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) पहुंचे थे लेकिन बाद में उन्होंने टूर्नामेंट से हटने का निर्णय लिया और शनिवार को भारत लौट आये। उनके वापस लौटने के पीछे का कारण परिवार बताया जा रहा है। रिपोर्टों के अनुसार रैना ने कहा है कि उनके लिए बच्चों की सेहत सबसे बड़ी प्राथमिकता है और सीएसके में अचानक कोविड-19 पॉजिटिव केस आने के बाद वह थोड़ा घबरा गए और उन्होंने स्वदेश लौटने का फैसला लिया। उल्लेखनीय है कि चेन्नई टीम के दो खिलाडिय़ों सहित 13 सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे जिसके बाद उन्हें 14 दिन के आइसोलेशन में रखा गया है।
आईपीएल के 13वें संस्करण के मैच दर्शकों के बिना जैव सुरक्षा वातावरण में खेले जाएंगे। आईपीएल की अधिकतर टीमें टूर्नामेंट शुरू होने के करीब चार सप्ताह पहले ही यूएई पहुंच चुकी हैं। टीम को लगभग तीन महीने तक अपने परिवार के बिना जैव सुरक्षा वातावरण में रहना होगा। सीएसके के 13 सदस्यों के कोरोना से संक्रमित होने के बाद खिलाडिय़ों की चिंताएं बढ़ गई हैं।
आईपीएल की कई टीम के कंडीशनिंग कोच रह चुके उप्टन के अनुसार इस वर्ष के आईपीएल में ‘अजीब चीजेंÓ हो सकती हैं और जो टीम इन सब चीजों का सामना अच्छी तरह कर लेगी वह अन्य की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करेगी।
उन्होंने कहा, कुछ खिलाड़ी उस समय दबाव में अच्छा प्रदर्शन करते हैं जब चारों तरफ बहुत सारे लोग उपस्थित होते हैं। जब आप खाली स्टेडियम में खेलते हैं तब उस स्तर का दबाव नहीं होता है। इसलिए जो खिलाड़ी बेहतर प्रदर्शन के लिए इस तरह के माहौल पर निर्भर होते हैं, उनके लिए मुश्किल हो सकता है। विराट कोहली जैसे खिलाड़ी क्या बाहरी प्रेरणा, शोर और दबाव के बिना भी उतना ही अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे ? जब दबाव ज्यादा होता है तो कई खिलाड़ी टूट जाते हैं लेकिन दर्शकों की गैर मौजूदगी में वे अपनी बल्लेबाजी कर पाएंगे क्योंकि दर्शकों के शोर का दबाव नहीं होगा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.