किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान जॉर्ज बैली ने अपने बल्लेबाजों से कहा कि वह हर बार ग्लेन maxvell से बड़ी पारी की उम्मीद नहीं रखें और उन्हें आगामी मैचों में जिम्मेदारी संभालने के लिए पूरी तरह से तैयार रहना चाहिए।
बैली ने किंग्स इलेवन की सनराइजबैली ने किंग्स इलेवन की सनराइजर्स हैदराबाद पर 72 रन से जीत के बाद कहा कि स्कोर बोर्ड पर बड़ा योग देखकर अच्छा लग रहा था। हमें वीरू (वीरेंद्र सहवाग) और (चेतेश्वर) पुजारा ने अच्छी शुरुआत दी। इस विकेट पर रन बनाना थोड़ा मुश्किल था लेकिन आप जानते हो कि मैक्सवेल किस तरह से बल्लेबाजी कर रहा है। हम जानते हैं कि हर बार ऐसा नहीं होगा। ऐसा भी समय आएगा जबकि अन्य बल्लेबाजों को जिम्मेदारी संभालनी होगी।
मैक्सवेल ने फिर अपने तूफानी तेवरों का इजहार किया लेकिन वह फिर शतक से चूक गए। उन्होंने 95 रन बनाए जिससे किंग्स इलेवन पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर छह विकेट पर 193 रन बनाने में सफल रहा। इसके बाद लक्ष्मीपति बालाजी ने चार ओवर में 13 रन देकर चार विकेट लिए और सनराइजर्स को 121 रन पर ढेर करने में अहम भूमिका निभायी।
बैली ने बालाजी की भी जमकर तारीफ करते हुए कहा, बालाजी की वापसी शानदार रही। उसने अभ्यास में कड़ी मेहनत की। मैं वास्तव में अपनी गेंदबाजी से बहुत खुश हूं। क्षेत्ररक्षण उतना अच्छा नहीं रहा लेकिन फिर भी ठीक है।
मैक्सवेल को लगातार तीसरे मैच में मैन ऑफ द मैच चुना गया और इस तरह से वह आईपीएल में सहवाग के बाद यह उपलब्धि हासिल करने वाले दूसरे खिलाड़ी बने। उन्होंने स्वीकार किया कि शतक पूरा नहीं कर पाने का उन्हें मलाल है।
मैक्सवेल ने कहा कि विकेट थोड़ा से अलग था। भाग्य ने भी मेरा साथ दिया। मैंने प्रवाह बनाए रखने की कोशिश की। मैंने कुछ खास क्षेत्रों में शॉट लगाने का प्रयास किये। यही मेरी रणनीति थी। मैं कुछ खास गेंदबाजों को निशाना बनाने की कोशिश कर रहा था।
उन्होंने कहा कि अच्छा होता यदि मैं शतक बना लेता। इस बार कम से कम लक्ष्य का पीछा करते समय तो मैंने अपना विकेट नहीं गंवाया। मैं टीम के लिए स्कोर करना चाहता हूं।
सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान शिखर धवन ने कहा कि मैक्सवेल का कैच टपकाना महंगा पड़ा। डेविड वॉर्नर ने ऑस्ट्रेलिया के अपने इस साथी का उस समय कैच छोड़ दिया था जबकि वह 13 रन पर थे। धवन ने कहा कि हमने कई कैच छोड़े और मैक्सवेल इसका फायदा उठाकर बड़ा स्कोर खड़ा करने में सफल रहा। इससे हमारे सामने बहुत बड़ा लक्ष्य आ गया था।
उन्होंने हालांकि अपने बल्लेबाजों की भी आलोचना की और इसे उनकी बहुत बड़ी असफलता करार दिया। धवन ने कहा कि हमने शुरू में ही काफी विकेट गंवा दिये थे। यह बल्लेबाजी में बहुत बड़ी असफलता थी। जब आप कैच छोड़ते हो और यह सब कुछ होता है तो निश्चित तौर पर बल्लेबाजों पर थोड़ा दबाव बन जाता है। हमें अपनी बल्लेबाजी पर काम करना होगा और अधिक रन बनाने होंगे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.