देश में आम चुनाव की वजह से संयुक्त अरब अमीरात में हो रहे आईपीएल सीजन 7 के शेष मैच अब भारत में आयोजित होंगे.iplचेन्नई सुपरकिंग्स रांची में कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ विजयी लय जारी रखने का प्रयास करेगी. तालिका में शीर्ष पर चल रही किंग्स इलेवन पंजाब से हाई स्कोर वाले शुरूआती मैच में हारने वाली दो बार की चैम्पियन चेन्नई सुपरकिंग्स ने अपना श्रेष्ठ खेल दिखाते हुए अगले चार मैच आसानी से जीत लिये. वहीं दूसरी तरफ राजस्थान रॉयल्स से सुपर ओवर में हरने के बाद कोलकाता नाइटराइडर्स इस मैच को जीत कर वापसी करना चाहेगी.
केकेआर को चेन्नई सुपरकिंग्स को पराजित करना है तो युवा मानविंदर बिस्ला, मनीष पांडे और सूर्य कुमार यादव को अपना बेहतर खेल दिखाना होगा.
सुनील नारायण फिर से गेंदबाजी में महत्वपूर्ण खिलाड़ी होंगे लेकिन केकेआर की टीम विकेट हासिल करने के लिये इस रहस्यमयी स्पिनर पर ज्यादा ही निर्भर कर रही है. वेस्टइंडीज के इस खिलाड़ी को तेज गेंदबाज मोर्नी मोर्कल से सहयोग की जरूरत होगी जो किसी भी दिन खतरनाक साबित हो सकता है. वहीं शकिबुल हसन और पीयूष चावला जैसे गेंदबाज उनकी सहायता के लिये मौजूद होंगे.
चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम लगातार चार जीत दर्ज करने के बाद आत्मविश्वास से भरी होगी. ब्रैंडन मैकुलम और ड्वेन स्मिथ शीर्ष बल्लेबाजी क्रम में शानदार रहे हैं. दोनों ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ अच्छी बल्लेबाजी की और दोनों केकेआर के लिये कांटा साबित हो सकते हैं.
राजस्थान के खिलाफ कोलकाता नाइटराइडर्स की बल्लेबाजी भी चली. गेंदबाजी भी. यहां तक की गंभीर का बल्ला भी चला लेकिन नहीं चली तो नाइटराइडर्स की किस्मत.
बाउंड्री काउंट में राजस्थान के हाथों मिली शिकस्त ने कोलकाता को कहीं का नहीं छोड़ा. कोलकाता नाइटराइडर्स ने पांच में से अब तक सिर्फ दो ही मुकाबले जीते हैं. अब उन्हें पटरी पर वापस लौटना है. लेकिन उसके लिए उन्हें सबसे मजबूत हो चुकी चेन्नई सुपरकिंग्स को हराना होगा. जो पहला मुकाबला गंवाने के बाद जीत के रथ पर सवार हो चले हैं.
टीमों के लिए राहत की बात ये है कि अब मुकाबले भारीय विकेट्स पर हो रहे हैं. जहां भारतीय बल्लेबाजों की बल्ले-बल्ले हो जाती है. लिहाजा कोलकाता के नाइटराइडर्स अब अपने बल्लेबाजों से उम्दा प्रदर्शन की उम्मीद कर रहे होंगे.
पिछले मुकाबले में कप्तान गंभीर की 45 रन की पारी बड़ी राहत लेकर आई थीं तो यूसुफ पठान रॉबिन उथप्पा, मनीष पांडे जैसे भारतीय खिलाड़ी भारतीय विकेट्स पर बेहतर करने की जुगत में होंगे.
वहीं चेन्नई के किंग्स हर किसी से सुपर ही साबित हो रहे हैं. टीम को तो छोड़िए चेन्नई के ओपनर्स ड्वेन स्मिथ और ब्रैंडन मैक्कुलम से ही पर पाना टेड़ी खीर साबित हो रहा है. दोनों मिलकर अबतक 5 मैच में कुल 433 रन बना चुके हैं. बाकी का काम पूरा करने वाले खिलाड़ी भी इस टीम में बड़ी तादात में मौजूद हैं जो भारत में आकर तो और भी धाकड़ बन जाएंगे.
यानी फिर इस टीम को हराने के लिए बाकी टीमों के पसीने छूटने वाले हैं. वैसे भी मुकाबला रांची में है लिहाजा रांची में वहां के राजकुमार यानी चेन्नई के कप्तान धोनी की ही धूम रहने वाली है. लेकिन रांची की धीमी विकेट पर कोलकाता के मिस्ट्री गेंदबाज सुनील नाराया एक बड़ा फैक्टर साबित हो सकते हैं. लिहाजा कोलकाता नाइटराइडर्स को अगर अपने अभियान को पटरी पर वापस लाना है तो चेन्नई के सुपरकिंग्स को किनारे लगाना होगा. जो जरा भी आसान नहीं होने वाला.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.