akhilesh

मुलायम सिंह यादव के परिवार के मतभेद उस समय खुलकर सामने आ गये, जब मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मुख्य सचिव दीपक सिंघल को बर्खास्त कर दिया और उसके बाद अखिलेश यादव को सपा प्रदेश अध्यक्ष का पद खोना पड़ा।

इसके बाद मुलायम ने अपने भाई और वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव को उत्तर प्रदेश का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया लेकिन नाराज मुख्यमंत्री ने अपने चाचा शिवपाल से लोक निर्माण विभाग, सिंचाई और सहकारी विभाग छीन लिये।

इससे पहले के घटनाक्रम में अखिलेश ने शिवपाल के करीबी समझे जाने वाले सिंघल को मुख्य सचिव पद से हटा दिया और प्रमुख सचिव (वित्त) राहुल भटनागर को नया मुख्य सचिव नियुक्त कर दिया था।

सरकारी बयान में इस घटनाक्रम की कोई वजह हालांकि नहीं बतायी गयी है लेकिन सपा के कुछ नेताओं का मानना है कि मुख्यमंत्री इस बात से खुश नहीं थे कि सिंघल सपा के राज्यसभा सदस्य अमर सिंह द्वारा दिल्ली में दिये गये रात्रिभोज में शामिल हुए थे। इस रात्रिभोज में अखिलेश शामिल नहीं हुए थे। मुलायम और सपा के अन्य कुछ शीर्ष नेता हालांकि इस रात्रिभोज में शामिल हुए थे।

पहले भी होते रहे हैं मतभेद
अखिलेश और शिवपाल के मतभेद कई मौकों पर सामने आये हैं, जिसमें मुख्य सचिव की नियुक्ति के लिए किसे चुना जाए और किसे ना चुना जाए यह भी शामिल है। सिंघल इससे पहले प्रमुख सचिव (सिंचाई) रह चुके हैं, जो विभाग शिवपाल के पास था। कुछ ही घंटों में मुलायम ने अखिलेश को सपा के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष पद से हटा दिया और अपने भाई शिवपाल को यह जिम्मेदारी दे दी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.