election-commissionनई दिल्ली। निर्वाचन आयोग के सूत्रों की माने तो उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव 6 से 7 चरणों में होंगे। सूत्रों कह माने तो ये चुनाव फरवरी में शुरू होकर मार्च में समाप्त हो जाएंगे।

माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव में सुरक्षा बलों की उपलब्धता की स्थिति को देखते हुए ऐसा फैसला किया जाएगा। यूपी विस चुनाव जनवरी के आखिरी व फरवरी के दूसरे हफ्ते में शुरू करवा दिए जाएंगे, जिसे मार्च के पहले सप्ताह में ही खत्म कर दी जाएगी।

चार अन्य और राज्यों में
यूपी के अलावा बाकि के चार राज्यों में एक ही चरण में चुनाव होंगे। केंद्र सरकार का कहना है सुरक्षा बलों में कोई कमी नही होगी। और अगले दो महीनों में यही स्थिति रहने की उम्मीद है। इसलिए चुनाव कार्यक्रम जनवरी में शुरू कर दिए जाने की संभावना है। पहले छोटे राज्यों (मणिपुर, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब) में चुनाव करवाए जाएंगे। उसके बाद सुरक्षा बलों को यूपी में केंद्रित किया जाएगा। उन्होंने कहा, केंद्र सरकार इस बार 80,000 से ज्यादा केंद्रीय सुरक्षा बल मुहैया करया जाएगा।

कब हो सकते हैं चुनाव
विधानसभा चुनावों की तिथियां पिछली बार के चुनावों की तरह से ही हो सकती हैं। पहले चरण का मतदान 5 या 11 फरवरी को हो सकता है। उसके बाद दूसरे चरण की तिथि 15 फरवरी, तीसरे चरण का चुनाव 18 और चौथे चरण में 22, पांचवां 26 फरवरी, छठवां एक मार्च और सातवें चरण का चुनाव 4 या 5 मार्च को हो सकता है। इस बीच चार राज्यों के चुनाव एक ही चरण में करवाए जाएंगे तथा ये 29 से 31 जनवरी तक समाप्त कर दिये जाएंगे। चुनावों की घोषणा के बारे में उन्होंने कहा कि, यह दिसंबर के अंतिम सप्ताह में की जा सकती है। लेकिन सभी राज्यों में मतों की गिनती एक साथ होगी।

यूपी की विधानसभा चुनाव की संभावित तिथियां
पहला चरण 60 सीटों पर 5 या 11 फरवरी
दूसरा चरण 55 सीटों पर 15 फरवरी
तीसरा चरण 59 सीटों पर 18 फरवरी
चौथा चरण 56 सीटों पर 22 फरवरी
पांचवा चरण 56 सीटों पर 26 फरवरी
छठवां चरण 49 सीटों पर 1 मार्च
सातवां चरण 68 सीटों पर 4 या 5 मार्च
कुल वोटर की संख्या 11,50,000,00 से ज्यादा है, जो 403 विधानसभा की कुल सीटों पर होगी। और इसकी अवधि 27 मई 2017 तक हो सकती है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.