modi3

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनसंघ के विचारक दीनदयाल उपाध्याय को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए रविवार को कहा कि क्या राजनेता उनके आदर्शो का अनुसरण कर भारतीय राजनीति को बदल सकते हैं। मोदी ने यहां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में अपने संबोधन में कहा, ‘हम अपनी सोच और आचरण के माध्यम से क्या हम राजनेताओं के प्रति लोगों की धारणा बदल सकते हैं? हम पंडित दीनदयाल के आदशरें का प्रतीक बन सकते हैं?’

मोदी के भाषण की 10 मुख्य बातें

देश की समस्याओं को समाधान सिर्फ और सिर्फ विकास में है
पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के विचारों को साकार करने का हम निरंतर प्रयास कर रहें है
हिंदुस्तान के सभी क्षेत्रों में सभी भू-भागों में और सभी लोगो के लिए विकास की समान संभावनाओं को हमें तलाशते रहना चाहिए
हम लोग लेने, पाने और बनने के लिए निकले हुए लोग नहीं हैं
भारत की राजनीति भारत की जड़ों से जुड़ी हो पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी ने हमें ये मंत्र दिया था
देश में चुनाव प्रक्रिया पर एक व्यापक चर्चा का समय आ गया है
पं दीनदयाल उपाध्याय जी कहते थे कि मुसलमानों को पुरस्कृत और तिरस्कृत नहीं किया जाना चाहिए
2 अक्टूबर को गांधी जयंती पर कोप-21 फैसलों को लागू करेंगे
दुनिया ने माना पर्यावरण में भारत को योगदान सबसे ज्यादा। गांधी जी ने पर्यावरण में अविस्मरणीय योगदान दिया
आजादी के बाद राजनीति में गिरावट आई है। कुछ लोगों के कारण राजनीति के स्तर में गिरावट आई है, राजनीति में दोबारा सम्मान लौटाना जरूरी है

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.