उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले में विधानसभा चुनाव का बिगुल बजते ही राजनीतिक पार्टियों में हलचल का माहौल बना हुआ है. इस दौरान सभी राजनीतिक पार्टी पूरे दमखम के साथ चुनाव की तैयारियों में लगी हुई हैं. इसी को लेकर बीते दिन इत्तेहाद मिल्लत काउंसिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष तौकीर रजा ने मुरादाबाद की बिलारी विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी कल्पना सिंह के चुनाव के पक्ष में जनसंपर्क किया. वहीं, जनसंपर्क के बाद मीडिया से रूबरू होते हुए सभी विपक्षी पार्टियों पर जमकर बरसे तौकीर रजा उन्होंने बीजेपी को मनहूसियत पार्टी बताते हुए कहा कि बीजेपी की मनहूसियत पूरे प्रदेश पर हावी है. तो वहीं सपा पर भी हमला बोलते हुए कहा कि, अखिलेश यादव को लगता है कि उन्हें गुरूर आ गया और मुसलमान मजबूर है. फिर उन्होंने बीजेपी और सपा दोनों पार्टियों एक साथ तंज कसते दंगे वाली पार्टी बताया.
दरअसल, इत्तेहाद मिल्लत काउंसिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष तौकीर रजा ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को लेकर कहा कि यह महसूस हो चुका है कि सपा की पीठ पर RSS का हाथ आ चुका है. जहां मुलायम सिंह यादव की वह फोटो भी वायरल हो रही है, जिसमें वह मोहन भागवत के साथ नजर आए. इस दौरान अखिलेश यादव की सरकार बनती है तो अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के आने वाले नीतीश कुमार साबित होंगे. ऐसे में हमारी कोशिश यह है कि कांग्रेस पार्टी को ज्यादा से ज्यादा मजबूत किया जाए. क्योंकि कांग्रेस ही इन सभी पार्टियों का मुकाबला कर सकती है. ऐसे में सरकार किसी की भी बने लगाम कांग्रेस के हाथ में होनी चाहिए.
अखिलेश यादव पर जमकर निशाना साधा – तौकीर रजा
वहीं, बरेली से मुरादाबाद पहुंचे तौकीर रजा ने बिलारी में कांग्रेस प्रत्याशी के घर पहुंचकर प्रत्याशी के समर्थन मैं जनसंपर्क किया, जिसके बाद TV9 भारतवर्ष संवादाता शारिक सिद्दीकी से बात करते हुए सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पर जमकर निशाना साधा हुआ कहां, 2012 से लेकर 2017 में अखिलेश यादव की सरकार में 176 दंगे हुए हैं, जिसमें पूर्व प्रदेश प्रचार हुआ है और खास तौर से मुसलमानों के साथ कई जुल्म हुए हैं, इसके अलावा सपने देखा है सपा सरकार में आखिरी वक्त में अखलाक जैसी घटना हुई है,जिसके बाद DSP जियाउर रहमान अंसारी को सरेआम मार दिया गया, और खालिद मुजाहिद को लखनऊ पुलिस कस्टडी ने मार दिया गया था, सपा सरकार में मुसलमानों पर जुल्म हुवा है, अखिलेश यादव द्वारा इस बार उस आदमी को टिकट दिया गया है, जो जियाउल हक अंसारी के कत्ल के मुखे एक्यू है उसे सपा ने दोबारा टिकट दिया गया है. ऐसे में सपा के टिकट दिए जाने के बाद यह महसूस किया गया अब अखिलेश यादव को गुरूर आ चुका अखिलेश यह सोचते हैं कि मुसलमान मजबूर हो गया है, तो मुसलमान मजबूर रहने वाला नहीं है मुसलमान अपना रास्ता बनाना खुद जानता है, तो जो हमें मजबूर समझता है, मुसलमान मजबूर होकर वोट नहीं करेगा.
2022 विधानसभा चुनाव में बननी चाहिए मिली जुली सरकार
बता दें कि आम लोगों की राय यह है इस बार बीजेपी की सरकार जानी चाहिए. लेकिन बीजेपी के लोग अखिलेश की सरकार में दंगे कराते रहें, बगैर नाम लिए बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा जब बीजेपी वाले सरकार से हटेंगे तो दंगों से बचने के लिए यह जरूरी है, इस बार 2022 विधानसभा चुनाव में मिली जुली सरकार बननी चाहिए, अगर अखिलेश यादव की सरकार खुद बन गई तो यूपी के लिए घातक होगी और मुसलमानों के लिए बेहद नुकसान साबित होगी. इस वक्त स्थिति परिस्थितियों को देखकर यह महसूस किया गया है कि अखिलेश यादव के ऊपर RSS का हाथ आ चुका है. जब मुलायम सिंह यादव की फोटो वायरल हुई है जिसमें मोहन भागवत जी के किए साथ नजर आए हैं, और सभी ने देखा है.
BJP में रहकर गालियां दी अब समाजवादी में आ गए- रजा
गौरतलब है कि बीजेपी के वह सभी नेता अब समाजवादी में आ गए हैं. जोकि पहले बीजेपी में रहकर हमें गाली दे रहे थे. अब वह सपा में आ गए हैं. 5 साल उन्होंने बीजेपी में रहकर सत्ता का मजा लिया है और अब 5 साल यह समाजवादी पार्टी में सत्ता का मजा लेना चाहते हैं, यह लोग खुद नहीं आए हैं बल्कि RSS ने इन्हें यहां शिफ्ट करा है, इससे यह महसूस होता है अगर अखिलेश यादव की सरकार बन गई तो अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के नितीश कुमार साबित होंगे इसलिए अखिलेश यादव की बहुमत की सरकार नहीं बननी चाहिए, इसीलिए तौकीर रजा ने कहा हमारी कोशिश किए हैं कांग्रेस को ज्यादा से ज्यादा मजबूत किया जाए. क्योंकि कांग्रेस ही पूरे देश में इन फिरकापरसों का मुकाबला कर सकती है, नोएडा के बाद अखिलेश यादव नजर नहीं आएंगे. वहीं, 2022 का चुनाव खत्म होते होते 2024 का चुनाव शुरू हो जाएगा, तो हमें 24 की तैयारी करनी है.
आजम खान को लेकर तौकीर रजा ने दिया बड़ा बयान
इस दौरान आजम खान के जेल में बंद होने को लेकर सपा पर तंज कसते हुए तौकीर रजा ने कहा मेरी तो एक बहुत छोटी सी पार्टी है. मुझे भी सरकार ने झूठा आरोप लगाकर 2010 में जेल भेज दिया था, जिसके बाद सभी ने देखा कई जगहों पर प्रदर्शन हुए मुरादाबाद में भी प्रदर्शन किया गया था तो सरकार ने मुझे 72 घंटों में सभी आरोपों से मुक्त करके छोड़ दिया. लेकिन आजम खान खुद इतनी बड़ी शख्सियत है उनके साथ उनकी पार्टी सपा भी बहुत बड़ी पार्टी है, अगर सपा आजम खान की हिमायत पर सड़कों पर आ जाती और यूपी को जाम कर देती तो आजम खान जो अभी तक जेल में सड़ नही पड़ता, जो पार्टी अपने एक बड़े नेता को छोटे-छोटे आरोपों से मुक्त नही करा सकती, जिसमें सभी कों पता है आज़म खान के ऊपर मुर्गी चोर और बकरी चोर के मुकदमे दर्ज हैं अभी तक सपा आजम खान को जेल से बाहर नहीं ला सकते तो तुम देश नहीं चला सकते अब प्रदेश नहीं चला सकते और तुम्हारे हाथ गैर जिम्मेदार हैं, और हम अपने प्रदेश को गैर जिम्मेदार हाथ से बचाना चाहते हैं.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.