बसपा अध्यक्ष मायावती ने आज हमीरपुर और उरई में चुनावी जनसभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में जंगलराज कायम है। और बसपा की सरकार बनने पर राज्य में जंगलराज का सफाया होगा और गुंडे जेल में होंगे। सपा के राज में कानून व्यवस्था ध्वस्त है। सूबे में सरकार बनने पर कानून का राज होगा। जमीन पर कब्जा करने वालों पर कडी कार्रवाई होगी।

यूपी की बेटी गुंडाराज करेगी खत्म
मायावती ने कहा कि कांग्रेस ने अपनी इज्जत बचाने के लिये सपा के साथ गठबंधन किया है। दलित व मुस्लिम समाज एकजुट होकर बसपा को वोट करें ताकि भाजपा सत्ता में न आ सकें। भाजपा ने वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव जनता से किये वादों को आज तक पूरा नहीं किया। जनता को गुमराह करने के लिये नये-नये लोक लुभावन वादे कर रही है। यूपी का गोद लिया बेटा बताकर जनता को गुमराह करने वाले की बातों में न आएं। यूपी की बेटी को आशीर्वाद दें ताकि गुंडाराज खत्म हो और प्रदेश विकास के पथ पर आगे बढ़ सके।

सपा को न करें वोट, मिलेगा भाजपा को फायदा
माया ने कहा कि मोदी ने देश के चहेते पूंजीपतियों को मालामाल किया है और अब उनकी बदौलत वे उत्तर प्रदेश की सत्ता में आने के सपने देख रहे हैं। केन्द्र सरकार दलितों, शोषितों, पिछड़ा वर्ग एवं आदिवासियों का शोषण कर रही है। आरएसएस के एजेंडे पर चलकर भाजपा आरक्षण समाप्त करना चाहती है। सत्ताधारी अखिलेश सरकार पर आक्रामक मायावती ने अल्पसंख्यक खासकर मुस्लिमों से सपा को वोट न करने की अपील की। उन्होंने कहा कि सपा को वोट करने से बेकार हो जायेगा और इसका लाभ भाजपा को मिलेगा। अपराधियों के हौसले बुलंद हो जायेंगे। अपराधमुक्त उत्तर प्रदेश बनाने के लिए बसपा की सरकार पूर्ण बहुमत से बनानी होगी। अगर इस बार चूक हुई तो भाजपा की सरकार बन जाएगी।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि प्रदेश की जनता अराजकता का जंगलराज को समाप्त करके सूबे में ‘कानून द्वारा कानून का राज’ देखना चाहती है। प्रदेश में आपराधिक वारदातों का सिलसिला बाकायदा जारी है। पांच साल के शासन के दौरान मुजफ्फरनगर सहित करीब 500 से अधिक सांप्रदायिक दंगों का दंश उत्तर प्रदेश ने झेला है।

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में लूटमार, फिरौती, गुंडा टैक्स, जमीन अधिग्रहण जैसी वारदातें भी खूब परवान चढ़ी हैं। इस सरकार में जितने बड़े कार्य हुए हैं, उनकी शुरूआत बसपा की सरकार के दौरान हुई थी। सपा सरकार ने नाम बदल डाले। उन्होंने कहा कि सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने पुत्रमोह में पड़ कर अपने भाई शिवपाल को अपमानित किया है, जिसका बदला शिवपाल यादव इस विधानसभा चुनाव में जरूर लेंगे। सबसे ज्यादा अधिकारियों के तबादले सपा के शासनकाल में हुए हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.