bjpलखनऊ। चार दिशाओं से निकल रही परिवर्तन यात्रा में भाजपा अब सीधे वोटर को लक्ष्य कर रही है। सर्जिकल स्ट्राइक, पाकिस्तान, स्थानीय मुद्दों के अलावा बसपा और सपा की सरकार में उप्र की बदहाली और विकास के सपने दिखाने के साथ ही भाजपा हिन्दुत्व पर भी केन्द्रित हो रही है। यह मुहिम पूरी तरह चुनावी दिखने लगी है और भाजपा के बड़े नेता सीधे वोटर को साधने की कोशिश कर रहे हैं।
भाजपा ने शनिवार को सहारनपुर और रविवार को झांसी से परिवर्तन यात्रा शुरू की जबकि मंगलवार को सोनभद्र के बाद बुधवार को बलिया से इसका शुभारंभ होगा। सभी यात्राओं को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह झंडी दिखा रहे हैं। साथ में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केन्द्रीय मंत्री कलराज मिश्र व उमा भारती और प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य के अलावा संबंधित इलाकों से जुड़े सांसद और मंत्रियों के साथ ही दलित, पिछड़ा और क्षेत्र की संबंधित जातियों के प्रभावशाली नेताओं को मंच पर तरजीह मिल रही है। भाजपा वोटर को प्रभावित करने के लिए जातीय, क्षेत्रीय संतुलन साधन के साथ ही वोटर के मन के मुद्दे उछाल रही है।
भाजपा के परिवर्तन रथ से भी जयश्रीराम जैसे उदघोष भी सुनाई पड़ रहे हैं लेकिन मुस्लिम नेताओं और बाहुबलियों पर अमित शाह हमला बोलकर प्रतीकों के जरिये हिन्दुओं के धु्रवीकरण की भूमिका तैयार कर रहे हैं। गुंडाराज, जबरन ठेका-पट्टा और जमीनों पर कब्जा भी एक अहम मुद्दा है। संबंधित इलाकों की दिक्कतों को प्रमुखता देने के साथ ही बसपा और सपा को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। मसलन झांसी में उमा भारती ने केन्द्र की योजनाओं में राज्य सरकार की अडंगेबाजी पर फोकस किया तो भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बुंदेलखंड में खनन का मुद्दा उठाते हुए कहा कि खनन का जो पैसा बसपा-सपा सरकार के संरक्षण में माफिया की जेब में गया उतने में बुंदेलखंड के हर घर में एक मारुति कार हो जाती। वोटर तक अपनी बात पहुंचाने का यह उनका अपना तरीका है। परिवर्तन यात्रा का रूट तय करते समय वोटर को प्रभावित करने का पूरा ख्याल रखा गया है। यात्रा के पहले ही संबंधित क्षेत्रों में जाकर परिवर्तन सारथी माहौल बना रहे हैं। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव भूपेन्द्र यादव लखनऊ में प्रवास कर चारो यात्राओं के अगले पड़ाव के लिए जरूरी बिन्दुओं पर शोध कर रहे हैं। जनता के लिए जरूरी लगने वाले सभी मुद्दे उछाले जाएंगे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.