भाजपा ने कहा कि नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में चुनाव में मिले ऐतिहासिक जनादेश को पार्टी ने पूरी विनम्रता से स्वीकार किया है लेकिन कांग्रेस अपनी पराजय को स्वीकार नहीं करके सरकार के काम में अनावश्यक बाधा डाल रही है।

भाजपा की राष्ट्रीय परिषद की आज हुई बैठक में पारित राजनीतिक प्रस्ताव में यह आरोप लगाया गया। इस प्रस्ताव पर अपनी बात रखते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने कहा कि सत्ता में रहते हुए कांग्रेस बोझ बन गई थी और अब विपक्ष में रहते हुए भी वह यही भूमिका निभा रही है। सत्ता में रहते हुए कांग्रेस ने अर्थव्यवस्था पर भारी बोझ डाला और अब भाजपा सरकार द्वारा अर्थव्यस्था से उसके द्वारा डाले गए बोझ को हटाने के प्रयास को भी विपक्ष में रहते हुए कांग्रेस रोड़े डाल कर बोझ बनने का काम कर रही है।

प्रकाश जावड़ेकर द्वारा रखे गए इस राजनीतिक प्रस्ताव में कहा गया है कि चुनाव के इस ऐतिहासिक जनादेश से साफ है कि जनता ने 10 वर्ष के संप्रग शासन से छुटकारा पाने की सौगंध खा ली थी।

इसमें दावा किया गया है कि भारतवासी अब खुश हैं और उन्हें स्वयं दिये गए जनादेश पर गर्व महसूस हो रहा है। प्रस्ताव में कहा गया कि भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री के उम्मीदवार के तौर पर नरेन्द्र मोदी ने अपने अथक परिश्रम से देश में आशा की ज्योति जलायी और राजनीति में जो अविश्वास का वातावरण बन गया था, उसे विश्वास में बदलने का सार्थक प्रयत्न मोदी द्वारा ही किया गया।

इसमें कहा गया कि यह एक ऐसा ऐतिहासिक चुनाव था, जिसमें 14 राज्यों और 6 केंद्र शासित प्रदेशों में कांग्रेस का खाता भी नहीं खुल पाया। उत्तरप्रदेश में कांग्रेस और सपा केवल अपने अपने परिवार के उम्मीदवारों की सीटों पर ही सिमट कर रह गई जबकि भाजपा ने प्रदेश में अभूतपूर्व सफलता हासिल करते हुए 80 में से 71 सीटों पर विजय पायी और दो अन्य सीटें उसके सहयोगी दल को मिली।arun

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.