chinmyananadबाबरी विघ्वंस का जिन्न एक बार फिर सामने आ गया है। अयोध्या के विवादित ढांचा प्रकरण के स्टिंग ऑपरेशन के सार्वजनिक होते ही राजनीतिक हल्कों में बवंडर शुरू हो गया है। रामजन्म भूमि आंदोलन के राष्ट्रीय संयोजक व पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद ने इसे कांग्रेस की साजिश करार दिया। उन्होंने कहा कि देश के सांप्रदायिक सौहार्द को डसने के लिए कोबरा पोस्ट ने 22 साल बाद फर्जी स्टिंग आपेरशन को सार्वजनिक कियाए जबकि इस बीच लंबे समय पर लिब्राहन आयोग व सीबीआइ ने जांच की। मामला भी न्यायालय में विचाराधीन है। 16वीं लोकसभा के चुनाव हो रहे हैं। ऐसे में स्टिंग ऑपरेशन को सामने लाना अति निंदनीय है।
मुमुक्षु आश्रम में प्रेस वार्ता में चिन्मयानंद ने कहा कि कोबरा पोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन के आरोप बेबुनियाद व शरारतपूर्ण हैं। सत्य तो यह है कि विवादित ढांचा ढहाने की मंशा ही नहीं थी। चिन्मयानंद ने कहा कि पांच दिसंबरए 1992 की रात को परमहंस रामचंद्र दासए स्वामी वामदेवए अशोक सिंघलए महंत अवेद्यनाथ ने बैठक की। पांचवें सदस्य के रूप में वह खुद मौजूद थे। बैठक में कारसेवकों के क्षोभ को देखते हुए उन्हें विवादित ढांचे से दूर रखने का निर्णय लिया गया था। ढांचा तोडऩे पर कोई चर्चा तक नहीं हुईए लेकिन देश भर से आए लाखों कारसेवक लालू द्वारा आडवाणी जी का रथ रोके जानेए मुलायम सिंह के कारसेवा में बाधा डालने व नरसिम्हा राव के लाल किले से भव्य मंदिर बनेए लेकिन मस्जिद न टूटे के संबोधन से खासे नाराज व उत्तेजित थे।
छह दिसंबर 92 को जब कारसेवा शुरू हुई तो कार सेवकों ने विवादित ढांचा ढहाकर क्षोभ व आक्रोश को शांत किया। चिन्मयानंद ने कहा कि वह 19 जनवरीए 1986 से लेकर चौरासी कोसी परिक्रमा तक रामजन्म भूमि आंदोलन के राष्ट्रीय संयोजक व हाई पॉवर एक्शन कमेटी के सदस्य के रूप में सक्रिय रहे। इस कारण उनका एक.एक दावा पूरी तरह सत्य है। उन्होंने बताया कि 18 दिसंबरए 92 को उन्होंने विवादित ढांचे के बाबत 90 मिनट सदन में वक्तव्य दियाए तब भी कोई नहीं बोला।
16वीं लोकसभा के चुनाव में जब देश नरेंद्र मोदी को देश का पीएम चुनने जा रहा हैए तब कांग्रेस ने कोबरा पोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन से साजिश कर समाज में सांप्रदायिकता का जहर घोलने का काम किया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.