49716-najma-heptullahनई दिल्ली। केंद्रीय अल्पसंख्यक आयोग मंत्री नजमा हेपतुल्ला ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान का समर्थन किया है जिसमें कहा गया था कि सांस्कृतिक तौर पर इस देश के सभी लोग हिंदू हैं। नजमा ने कहा है कि अगर राष्ट्रीय पहचान के लिए सबको हिंदू कहा जाए तो इसमें कोई बुराई नहीं है। हालांकि इस मुद्दे पर विवाद होने के बाद नजमा ने अपनी सफाई पेश की है।
एक अखबार को दिए इंटरव्यू में नजमा ने कहा कि हिंदुस्तान में रहने वाले लोगों के लिए हिंदू शब्द एक राष्ट्रीय पहचान का प्रतीक है और किसी को इतिहास नहीं भूलना चाहिए। नजमा ने ये तर्क दिया कि अरब देशों में भी भारत को अल हिंद कहा जाता है। नजमा ने यह बयान आरएसएस के सर संघ चालक मोहन भागवत के 17 अगस्त को दिए उस बयान की पृष्टिभूमि में दिया था जिसमें कहा गया था कि भारत एक हिंदू राष्ट्र है और यहां रहने वाले सभी लोग हिंदू हैं। भागवत ने कहा था कि राष्ट्र की पहचान हिंदुत्व से है। हिंदुस्तान में रहने वाले सभी लोगों हिंदू है।
नजमा हेपतुल्ला ने बाद में अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि दरअसल उन्होंने भारतीयों के लिए हिंदी शब्द का इस्तेमाल किया था, हिंदू का नहीं। नजमा के मुताबिक हिंदी शब्द राष्ट्रीय पहचान का प्रतीक है और इसमें कोई बुराई नहीं है। नजमा की दलील है कि अरब देशों में भी भारत को अल हिंद कहा जाता है। उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति ने उनसे इंटरव्यू किया, उसने हिंदी को हिंदू समझ लिया होगा।
दूसरी तरफ विपक्षी कांग्रेस और एनसीपी ने इस मुद्दे पर तीखी प्रतिक्रिया जताई है। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा, ‘नजमा जी अगर भारत का संविधान पढ़ लें तो बेहतर रहेगा। भारतीय संविधान के हिसाब से हर नागरिक भारतीय है, हिंदू नहीं।’ एनसीपी नेता तारिक अनवर ने कहा, ‘अगर उन्होंने ऐसा बयान दिया है तो दुर्भाग्यपूर्ण है। मैं समझता हूं कि मंत्री बने रहने के लिए वो इस तरह का बयान दे रही हैं।’ मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने कहा कि केंद्रीय अल्पसंख्यक आयोग मंत्रालय का गठन अल्पसंख्यकों के हितों का ख्याल रखने के लिए बनाया गया है। नजमा केंद्र सरकार में मंत्री हैं। वह अपना पक्ष साफ करें। संविधान भारत के लिए बना है ना कि हिंदुस्तान के लिए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.