समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता व मुलायम सिंह यादव के सबसे करीबी मल्हनी विधायक पारसनाथ यादव का शुक्रवार को उनके शहर स्थित आवास पर निधन हो गया। उनके निधन की सूचना मिलते ही शोक की लहर दौड़ पड़ी। बरसठी थाना क्षेत्र के कारो बनकट गांव निवासी पारसनाथ यादव की गिनती ने मुलायम सिंह के करीबियों में होती है।

1972 में बरसठी ब्लाक के गहरपुर ग्राम सभा से पहली बार ग्राम प्रधान चुने गए थे। सन् 1977 में पहली बार जिला पंचायत सदस्य बन गए। सन् 1984 में पहली बार बरसठी विधानसभा से विधायक हुए। राजनीति का अखाड़ा पारसनाथ यादव ने बरसठी ब्लाक से ही शुरू की थी। जौनपुर सदर लोकसभा सीट से 2 बार समाजवादी पार्टी के सांसद रहे। पहली बार 1998 में सांसद बने। 1999 में उपचुनाव हुआ तो स्वामी चिन्मयानंद से हार गए। 2004 में तत्कालीन गृह राज्य मंत्री रहे स्वामी चिन्मयानंद को हरा कर 1999 का बदला ले लिया।

सपा में इनकी गिनती दिग्गजों में होती थी। जितनी दिलेरी से वे जौनपुर वालों की मदद करते थे वह अन्य किसी में नहीं दिखता। उनके निधन की सूचना मिलते ही सभी दलों में शोक की लहर दौड़ पड़ी। लोग अपना कामकाज छोड़ शोक व्यक्त करने के लिए टीडी कालेज रोड स्थित आवास पर पहुंचने लगे थे। ट्रैफिक व्यवस्था को चलाने के लिए जेसीज से ओलन्दगंज जाने वाले लोगों को रोक दिया गया था। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शोक जताया और उनके अंतिम संस्कार में शामिल होने की सूचना दी है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.