राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने आज मांग की कि तृणमूल कांग्रेस के tapas pal को उनकी गैर संवेदनशील टिप्पणी को लेकर संसद से निष्कासित किया जाए। लोकप्रिय बंगाली कलाकार सांसद पाल कैमरे पर कथित रूप से माकपा कार्यकर्ताओं को यह धमकी देते हुए पकड़े गए कि वह लडक़ों को उनके घरों में जाकर बलात्कार की छूट देंगे। उनकी इस टिप्पणी पर भयंकर विवाद खड़ा हो गया है।
आयोग की प्रमुख ममता शर्मा ने प्रेस ट्रस्ट से कहा, उन्हें (संसद से) निष्कासित कर दिया जाए। यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण बयान है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री स्वयं ही एक कार्यकर्ता रही हैं और उन्हें कुछ संवेदनशीलता दिखानी चाहिए तथा इन सांसद के विरूद्ध कार्रवाई करनी चाहिए। ममता ने कहा, प्रधानमंत्री को भी इस मामले में कार्रवाई करनी चाहिए। ऐसे शब्द कभी किसी सांसद ने नहीं कहे। पाल ने बयान नहीं दिया बल्कि उन्होंने एक अपराध किया है। विभिन्न राजनीतिक दलों ने पाल के बयान की निंदा की है और लोकसभाध्यक्ष से इस मामले का स्वत: संज्ञान लेने की अपील की है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.