jaitlyonrapeनई दिल्ली। दिल्ली के निर्भया गैंगरेप कांड से जुड़े वित्त मंत्री अरुण जेटली के बयान पर विवाद तेज हो गया है। दरअसल टूरिज्म पर एक कार्यक्रम के दौरान जेटली ने कहा था कि 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में हुए गैंगरेप कांड एक छोटी सी घटना थी, लेकिन मीडिया ने इस खबर को बहुत बढ़ा-चढ़ा कर दिखाया। जिससे देश के पर्यटन उद्योग को करोड़ों अरबों रुपये की चपत लगी।
जेटली ने कहा कि निर्भया कांड की अंतरराष्ट्रीय कवरेज के चलते देश के पर्यटन उद्योग को भारी चपत लगी है।हालांकि अपने बयान पर विवाद होने के बाद जेटली ने सफाई दी है। उनका कहना है कि उनका मकसद किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं था। इस बीच विपक्षी नेताओं ने जेटली के बयान का पुरजोर विरोध किया है। निर्भया के माता-पिता ने भी वित्त मंत्री के इस बयान को गैरजिम्मेदाराना बताया है।
गौरतलब है कि 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली शहर में छह लोगों ने एक चलती बस में एक 23-वर्षीय फिज़ियोथैरेपी छात्रा से गैंगरेप किया था। इस वारदात ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। सैकड़ों लोग लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए दिल्ली की सड़कों पर उतर आए थे। इतने संवेदनशील मसले पर वित्तमंत्री के ऐसे बयान से चौतरफा आलोचना हो रही है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.