कांग्रेस सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने अपनी पत्नी सुनंदा पुष्कर की संदिग्ध मौत के बाद पहली बार शुक्रवार को मीडिया के सामने आकर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा,‘ सुनंदा की मौत के बाद करीब साल भर तक मैं चुप रहा, क्योंकि पुलिस जांच चल रही थी। मेरी खामोशी का मतलब यह नहीं कि मैं दोषी हूं।’ कांग्रेस सांसद ने मीडिया से बात करते हुए कहा, मेरी चुप्पी के कई मतलब निकाले गए। चार दिन से कई षडयंत्र कथाएं फैलाई जा रही हैं। मैं एक दुखी पति के तौर पर सामने आया हूं। जिसकी पत्नी अब नहीं है। थरूर ने कहा कि सुनंदा तक पहुंच रखने वाले किसी भी व्यक्ति के पास उसे नुकसान पहुंचाने के लिए कुछ भी करने का कोई कारण नहीं है। इस दौरान उन्होंने पुलिस को जांच में पूरा सहयोग करने का भरोसा दिया और मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की। जांच को लेकर कई सवाल : कांग्रेस नेता ने कहा, हालांकि जांच को लेकर मेरे मन में कई सवाल हैं। इस सिलसिले में मैंने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को विस्तार से एक खत लिखा है। मुझे उम्मीद है कि वह इस पर निजी तौर पर ध्यान देंगे। क्योंकि इस मामले को लेकर बहुत विवाद हो रहा है और मेरे खिलाफ झूठ पर झूठ बोला जा रहा है। इसलिए यह जरूरी है कि सही ढंग से मामले की जांच हो। बिना किसी राजनीतिक दबाव के।  बस्सी बोले, तीन चार दिन इंतजार करें : दिल्ली पुलिस आयुक्त बीएस बस्सी ने कहा कि सुनंदा पुष्कर मौत मामले में वह तीन-चार दिन में कुछ ठोस जानकारी मुहैया करने में सक्षम होंगे। बस्सी ने बताया कि विशेष जांच टीम अब मामले के तमाम पहलुओं पर गौर कर रही है। जल्द ही अहम सूचना मिल सकती है, इसलिए कुछ समय इंतजार करना बेहतर होगा। गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने सुनंदा की मौत के सिलसिले में मंगलवार को आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का एक मामला दर्ज किया था। रिपोर्ट के मुताबिक सुनंदा की मौत अस्वभाविक थी और जहर के चलते हुई थी। मामले की जांच के लिए एक एसआईटी का गठन किया गया है।thurur

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.