बलिया – कांग्रेस के पूर्व सांसद राजेश मिश्रा ने पार्टी को देश के मौजूदा राजनीतिक परिवेश में आत्ममंथन करने की सलाह देते हुए महासचिव प्रियंका गांधी के सलाहकार का दायित्व संभालने से इनकार कर दिया है। उन्‍होंने कहा कि प्रियंका गांधी को सलाह देने की उनकी हैसियत नहीं है।

वाराणसी से कांग्रेस के सांसद रहे और लोकसभा चुनाव (2019) में सलेमपुर सीट से पार्टी प्रत्याशी रहे वरिष्ठ नेता राजेश मिश्रा ने कहा कि उन्होंने अपने फैसले से कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के कार्यालय को अवगत करा दिया है। उन्होंने लखनऊ कैंट सीट के प्रभारी का पद संभालने से भी मना कर दिया है।

पूर्व सांसद ने कांग्रेस को देश के मौजूदा राजनीतिक परिस्थितियों में आत्ममंथन करने की सलाह दी, ताकि पार्टी की स्थिति दुरुस्त हो सके। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को देश के मौजूदा राजनीतिक परिस्थितियों के मद्देनजर जो करना चाहिए, वह नहीं कर पा रही है। कांग्रेस को मौजूदा हालात से उबारने के लिए मेहनत की जानी चाहिए और पार्टी के लोगों का मनोबल बढ़ाने वाला कदम उठाना चाहिए।

राजेश मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस को जमीनी, निष्ठावान, मेहनती और विशुद्ध कांग्रेसी लोगों को आगे बढ़ाना चाहिए। पार्टी की अनुशासन समिति, दल के वरिष्ठ नेताओं और दल के राज्य प्रभारियों को पार्टी नेताओं की अनावश्यक बयानबाजी का संज्ञान लेकर स्थिति को सामान्य करने के लिए कदम उठाना चाहिए. राजेश मिश्रा को उत्तर प्रदेश कांग्रेस की नवगठित इकाई में सलाहकार परिषद का सदस्य बनाया गया था। इस परिषद को पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी को दल के विभिन्न कार्यक्रमों और योजनाओं को लेकर सलाह देनी थी।

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.