मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री होंगे। भोपाल में गुरुवार रात विधायक दल की बैठक हुई जिसमें कमलनाथ को विधायक दल का नेता चुन लिया गया। विधायक दल की बैठक में उनके नाम पर मुहर के बाद पर्यवेक्षक एके एंटोनी ने कमलनाथ के नाम की औपचारिक घोषणा की। कमलनाथ 17 दिसंबर को भोपाल में सीएम पद की शपथ लेंगे।

दिल्ली से भोपाल तक दिनभर गहमागहमी के बाद गुरुवार देर रात यह साफ हो पाया कि मुख्यमंत्री की कुर्सी पर कौन काबिज होगा। अर्जुन सिंह के पुत्र और विधानसभा में विपक्ष के नेता अजय सिंह ने एक ट्वीट में लिखा “कांग्रेस विधायक दल द्वारा कमलनाथ जी को सर्वसम्मति से मुख्यमंत्री के रूप में चुने जाने पर हार्दिक बधाई। आपके ऊर्जावान नेतृत्व में कांग्रेस अपने वचनपत्र को पूरा करेगी और मध्यप्रदेश को समृद्धि की नई की नई ऊंचाइयों पर पहुंचाएगी।

नए सीएम के तौर पर नाम की घोषणा के बाद कमलनाथ ने कहा, “यह पद मेरे लिये मील का पत्थर है। ज्योतिरदित्य का धन्यवाद जिन्होंने मेरा समर्थन किया. इनके पिताजी के साथ मैंने काम किया है इसलिए इनके समर्थन मिलने से मुझे खुशी हो रही है। अब हमारे सामने कई चुनौतियां हैं, हम सब मिलकर हमारा वचन पत्र पूरा करेंगे। मुझे पद की कोई भूख नहीं। मेरी कोई मांग नहीं थी। मैंने अपना पूरा जीवन बिना किसी पद की भूख के कांग्रेस पार्टी को समर्पित किया। मैंने संजय गांधी, इंदिरा, राजीव के साथ काम किया है और अब राहुल गांधी के साथ काम कर रहा हूं।”

बैठक के बाद राहुल ने ट्विटर पर कमलनाथ और सिंधिया के साथ अपनी तस्वीर पोस्ट की और कहा, “दो सबसे शक्तिशाली योद्धा धर्य और समय हैं : लियो टॉल्सटॉय।” विधानसभा चुनाव में राज्य की 230 सीटों में से कांग्रेस को 114 सीटें मिली है वहीं भाजपा को 109 सीट पर जीत मिली है। बसपा को दो और सपा को एक सीट मिली है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.