ramsetu-in-ayodhyaनई दिल्ली। भगवान श्रीराम को लेकर एक मैसेज सोशल मीडिया पर इन दिनों काफी चर्चा में हैं। फेसबुक पर शेयर हो रहे इस पोस्ट में बताया गया है कि दशहरे के 21 दिन बाद ही दिवाली इसलिए मनाई जाती है। क्योंकि दशहरे के दिन रावण को मारने के बाद भगवान राम ने पैदल यात्रा कर अयोध्या लौटे थे। उन्हें श्रीलंका से अयोध्या पहुंचने में 21 दिन लगे थे। इस पोस्ट में गूगल मैप का एक फोटो भी शेयर किया जा रहा है।

सोशल मीडिया पर तरह तरह का मैसेज
श्रीलंका से अयोध्या की दूरी 2586 किमी है। और इस दूरी को अगर पैदल चलकर किया जाए तो पूरे 21 दिन लगेंगे। मतलब रोजाना करीब 123 किमी चलना पड़ेगा। और हर घंटे पांच किमी चलना पड़ेगा, वो भी बिना रुके। यह मैसेज फेसबुक के अलावा वॉट्सऐप पर भी बहुत शेयर हो रहा है। ट्विटर पर भी राम अयोध्या रोड मैप के नाम से हैशटेग चल रहा है। और इस हैशटेग को लेकर कई लोग ट्वीट कर रहे हैं। कई लोग इस पोस्ट को सपोर्ट कर रहे हैं, तो दूसरी ओर कुछ लोगों ने सवाल भी उठाया है कि राम पैदल नहीं, पुष्पक विमान से अयोध्या लौटे थे।

गूगल पर राम का रूट मैप
श्रीलंका में गूगल पर यह रूट श्रीलंका के डमबुल्ला के चांदना से शुरू होता है। यहां से किंबिसा, गलकुलामा, मिहिंटाले, मेडवाछिया होते हुए तलाईमन्नार तक पहुंचता है। इसके बाद वहां से समुद्र के जरिए रामेश्वरम पहुंचता है।
भारत में यह रामेश्वरम से कुंबोकोणम, कांचीपुरम, तिरूपति, नेल्लोर, ओंगले, सूर्यापेट पहुंचता है। जहां से महाराष्ट्र के चंद्रपुर, नागपुर होते हुए एमपी के सिवनी, जबलपुर, कटनी, रीवा। इसके बाद यूपी के इलाहाबाद, सारोन, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, रेहट होते हुए अयोध्या जाता है।

क्योरा पर बहस
साल 2015 से क्योरा पर चली आ रही बहस अभी सोशल मीडिया पर अब तक 41 हजार से लोगों ने देखा है। सवाल-जवाब की वेबसाइट क्योरा पर भी मामले को लेकर बहस छिड़ी हुई है। क्योरा पर सवाल किया गया कि दशहरे के बाद राम कितने दिन बाद अयोध्या पहुंचे थे। इस पर कई लोगों ने अपनी राय दी है। बहुतो ने फोटो व ग्राफिक्स के जरिए अपना जवाब दिया। कई लोगों ने अपने तर्क के साथ दूसरी वेबसाइट्स के लिंक भी शेयर किए हैं। इस पेज को 41 हजार 400 से अधिक लोगों ने देखा है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.