the-worlds-first-synthetic-nano-robot-developedप्रकाश से संचालित यह रोबोट इंसान के बाल से भी ५० गुना छोटा है
बीजिंग। तकनीकि में हर रोज नए बदलाव हो रहे हैं और निरंतर उसे सरल और सूक्ष्म बनाने का प्रयास किया जा रहा है। रोबोटिक्स तकनीकि के मामले में वैज्ञानिकों ने एक ऐसा रोबोट विकसित करने के दिशा में एक बड़ी सफलता हासिल की है जो दुनिया का पहला प्रकाश संचालित सिंथेटिक नैनो रोबोट है। साथ ही ये इंसान के बाल से भी 50 गुना छोटा है।
हांगकांग यूनिवर्सिटी के डॉ. जिनयाओ तांग और उनके कई सहयोगियों द्वारा मिलकर बनाया गया ये रोबोट खून की कोशिका के बराबर है। इसका आकार महज कुछ माइक्रोमीटर का है। इसे खास तौर पर ट्यूमर के आपरेशन के लिए बनाया गया है। इसे रोगी के शरीर में पहुंचा कर ट्यूमर को खत्म किया जा सकता है। इससे चिकित्सा विज्ञान में बड़ा बदलाव आने की उम्मीद है साथ ही इससे उपचार करना आसान हो जाएगा।
इसे कम कीमत वाले अर्धचालक सिलिकॉन और टाइटेनियम ऑक्साइड से मिलाकर बनाया गया है। इसे संचालित करने के लिए प्रकाश का इस्तेमाल किया जाता है। तांग ने इस रोबोट का प्रदर्शन में दिखाया कि किस तरह प्रकाश की उपस्थिति में ये रोबोट डांस करने लगते हैं।
ये रोबोट प्रकाश शैवालों के प्रकाश संश्लेषण के सिद्धांत पर आधारित है। जिस तरह शैवाल प्रकाश संश्लेषण की क्रिया को अंजाम देने के लिए प्रकाश की तरफ बढऩे लगते हैं उसी तरह कि ये रोबोट प्रकाश को देखने में सक्षम में हैं और उसी दिशा में आगे बढ़ते हैं। तांग और उनकी टीम ने देखा कि 3 साल तक गहन शोध करने के बाद इस रोबोट को बनाने में सफलता प्राप्त की है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.