यूपी के लखीमपुर खीरी में एक बार फिर सांप्रदायिक माहौल बिगड़ गया है। इस बार भारतीय जनता पार्टी के एक प्रत्‍याशी की बेटी के साथ संप्रदाय विशेष के युवकों द्वारा कथित छेड़छाड़ के बाद बुधवार को माहौल गरमा गया। इससे पहले भी आपत्तिजनक वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने से जिले में तनाव हो गया था और कर्फ्यू लगाना पड़ा था।

बुधवार रात की घटना के बाद कोतवाली के पास सैकड़ों की संख्या में एकत्रित भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को हल्का लाठीचार्ज और बल प्रयोग करना पड़ा। बाजारें बंद कर दी गईं। स्थिति पर नियंत्रण कायम करने के लिए उप-जिलाधिकारी सैमुलपाल और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपेंद्रनाथ चौधरी ने भारी पुलिस बल के साथ पूरे शहर में पैदल ही गश्त लगाई।

क्या है मामला
दरअसल, बुधवार दोपहर भाजपा प्रत्याशी योगेश वर्मा की बेटी के साथ कुछ युवकों ने छेड़छानी की, जिससे मामला भड़का और खबर भाजपा प्रत्याशी तक पहुंची। भाजपा प्रत्याशी योगेश वर्मा और उनके समर्थकों ने आरोपी की जमकर धुनाई की। इसके बाद भाजपा उम्मीदवार और आरोपी को कोतवाली पुलिस ने हिरासत में ले लिया और बाद में छोड़ दिया। इधर, जनता का गुस्सा भड़क उठा और छेड़छाड़ के आरोपी को पकड़कर खूब पीटा। उन्होंने जुलूस निकालना शुरू कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपी को छुड़वा दिया। इसी दौरान आरोपी और उसके साथी मौके से फरार हो गए. इससे लोग गुस्सा गए और हंगामा करने लगे। इस दौरान भाजपा नेता योगेश वर्मा की एएसपी से कहासुनी भी हो गई। भीड़ के तेवर देखकर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया।

भाजपा नेता को भी भीड़ ने पीटा
कथित रूप से भाजपा नेता योगेश सहित कई भाजपा कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया। योगेश सहित तीन लोगों को हिरासत में ले लिया गया। डीएम आकाश दीप, एसपी मनोज झा सहित तमाम अफसर कोतवाली पहुंचे। पुलिस ने कुछ घंटे बाद भाजपा नेता और उनके साथियों को छोड़ दिया।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, विधायक प्रत्याशी की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने आईपीसी की धारा 354/718 पॉस्को एक्ट के अंर्तगत शादाब और अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।
आरोपी पुलिस की हिरासत में है, जबकि छेड़छाड़ के प्रकरण में लिप्त अन्य अज्ञात आरोपियों की तलाश जारी है। भाजपा जिला अध्यक्ष शरद बाजपेयी ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.