happy girls sending sms
Now send unlimited SMS per day

मोबाइल फोन धारकों के लिए खुशखबरी।अब लोग अपने मोबाइल से प्रियजनों को असीमित मैसेज कर पाएंगे। उन पर अब किसी तरह की बंदिश नहीं होगी। दिल्ली हाईकोर्ट ने टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राइ) के उस आदेश को निरस्त कर दिया, जिसमें किसी मोबाइल द्वारा एक दिन में 200 एसएमएस किए जाने की लिमिट तय की गई थी। हालांकि उच्च न्यायालय ने ट्राइ के आदेश के अनुसार यह छूट केवल निजी संदेशों पर ही प्रदान की है। व्यवसायिक उद्देश्य से किए जाने वाले मोबाइल संदेशों पर ट्राइ का नियम पहले की तरह ही लागू रहेगा। उच्च न्यायालय के कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश एके सिकरी व राजीव सहाय एंडलॉ की खंडपीठ ने फैसले में कहा कि इस तरह की रोक एक आम नागरिक की बातचीत की स्वतंत्रता पर रोक लगाने जैसी है। लिहाजा, इसे हटाया जाना ही जनहित में होगा। हालांकि ट्राइ द्वारा व्यवसायिक प्रयोग के लिए किए जाने वाले मोबाइल संदेशों पर यह रोक उचित है, क्योंकि अनसॉलीसिटेड कमर्शियल कॉल (यूसी कॉल) और एसएमएस आम नागरिक के शांतिपूर्ण जीवन में खलल पैदा करते हैं। यह बात ट्राइ ने अपनी जांच में परखी है। विभिन्न कंपनियां आज अपने उत्पाद बेचने के लिए मोबाइल संदेशों और यूसी कॉल का सहारा ले रही हैं। जिससे लोगों को परेशानी होती है, क्योंकि न चाहते हुए भी बहुत सी कंपनियां दिनभर अपने मैसेज व फोन लोगों तक पहुंचाती रहती हैं। ऐसे में व्यवसायिक गतिविधियों के लिए ट्राई द्वारा लगाई गई यह रोक पूरी तरह से वैध है और बरकरार रहेगी। उल्लेखनीय है कि टेलीकॉम वाचडॉग नामक एक संस्था के सचिव अनिल कुमार ने ट्राइ के उस आदेश के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की थी। अपनी याचिका में अनिल का कहना था कि ट्राई द्वारा आम व्यक्ति द्वारा मोबाइल से 200 से अधिक संदेशों को भेजने पर रोक लगा दी गई है। जिससे लोगों की आजादी में खलल पैदा हो रहा है। त्यौहारों या विशेष मौकों पर अगर कोई व्यक्ति अपने 200 से अधिक प्रियजनों व परिजनों को मोबाइल संदेश नहीं भेज सकता। ऐसे में लोगों की भावनाएं आहत हो रही हैं। लिहाजा, ट्राइ को अपने इस आदेश में संशोधन करने एवं इस रोक को हटाने के लिए आदेश जारी किया जाए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.