sant

वृंदावन में करीब पांच सौ से अधिक संत हथियार लेकर टहल रहे हैं। एक-एक आश्रम में बहुत सारे हथियार हैं। इनमें कई अन्य राज्यों से स्वीकृत हथियार भी हैं। यह खुलासा पुलिस प्रशासन की ओर से किए जा रहे डोर टू डोर सर्वे में सामने हुआ है। हिंदुस्तान की खबर के मुताबिक विधानसभा चुनाव 2017 के लिए पुलिस अब घर-घर जाकर असलाह धारकों से एक-एक कारतूस का हिसाब ले रही है साथ ही असलाहों और उनके लाइसेंस की भी जांच पड़ताल कर रही है।

जिसमें उनका वर्तमान पता एवं मोबाइल नंबर जैसी जानकारी अपडेट कर रही हैं। पुलिस उच्चाधिकारियों के निर्देश पर सब इंस्पेक्टर से लेकर होमगार्ड तक डोर टू डोर जाकर लाइसेंसधारी असलाहों की स्थिति और उनसे संबंधित जानकारी जुटा रहे हैं। शहर में असलहा लाइसेंसधारक ने कब-कब कितने कारतूस खरीदे और उनका उपयोग कब और कहां किया।वर्तमान में कितने कारतूस उनके पास मौजूद हैं।

इतना ही नहीं लाइसेंस धारक के घर का वर्तमान पता, पूर्व का पता, असलाह का स्वरूप, एकनाली, दोनाली, बैरल एकनाली, पिस्टल, रिवाल्वर, उनके बोर और असलाह पर अंकित उसका नंबर भी जांचा जा रहा है। यह जांच पिछले 15 दिनों से शहर में चल रही है। इससे पहले इस तरह की जांच पड़ताल जिला मुख्यालय स्तर पर हुआ करती थी। लेकिन इस बार जिला मुख्यालय के साथ स्थानीय स्तर पर बीटवार की जा रही है। एसएसआई नरेन्द्र कुमार ने बताया कि नगर में असलाहों को भौतिक सत्यापन समय-समय पर होता है। असलहों के साथ कारतूस का हिसाब लिया जा रहा है। कितने कारतूस कुल खरीदे गए और कितने और कहां उपयोग किए गए। शांति कायम करने को ध्यान में रखते हुए सत्यापन सघनता एवं सावधानी पूर्वक किया जा रहा है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.