miss-asia-pacafic-2012-himangini-singh
Miss Asia Pacafic 2012 Himangini Singh

सौन्दर्य प्रतियोगिताओं में भारत का पिछले 12 साल से पड़ा सूख अब समाप्त हो गया है। इंदौर की हिमांगिनी ने 12 साल बाद भारत को मिस एशिया पैसफिक का खिताब दिला कर दुनिया भारतीय सौन्दर्य का परचम एक बार फिर से लहराया है। वर्ष 1966 में भारत की रीता फारिया ने जब मिस वल्र्ड का खिताब जीता तब दुनिया की नजर भारतीय सौन्दर्य पर पड़ी। लेकिन उसके बाद एक लम्बा अंतराल रहा। सौन्दर्य प्रतियोगिता में भारत की झोली सालों खाली रही। वर्ष 1993 में भारतीय सुंदरी सुष्मिता सेन ने मिस यूनिवर्स का खिताब जीत दुनिया में भारत का नाम एक बार फिर ऊंचा कर दिया। 1994 में ऐश्वर्य राय ने जब यह खिताब अपनी झोली में किया तो जैसे भारत के भाग्य का पिटारा खुल गया। फिर तो लाइन लग गई। सौन्दर्य प्रसाधन वाली बहुराष्टï्रीय कम्पनियों को भारत एक बड़ा बाजार नजर आने लगा। 1996 में मिस वल्र्ड प्रतियोगिता हालांकि भारत में हुईं लेकिन भारत की झोली खाली रही। डायना हेडन 1997 ने मिस वल्र्ड का खिताब जीत भारत को एक फिर चर्चा में ला दिया। दो साल बाद यानी 1999 में युक्ता मुखी ने मिस वल्र्ड प्रतियोगिता में खिताब अपने नाम कर भारतीय सौन्दर्य का पूरी दुनिया को दीवाना बना दिया। जरा याद की कीजिए वर्ष 2000 जब भारत को तीनो सौन्दर्य प्रतियोगिताओं में कामयाबी मिली थी। लारा दत्ता को मिस यूनिवर्स प्रियंका चोपड़ा मिस वल्र्ड और दीया मिर्जा को मिस एशिया पैसफिक का खिताब मिला था। भारत उसके बाद से सौन्दर्य प्रतियोगिताओं में भारत के हाथ निराशा ही लगी। नेहा धूपिया, तनुश्री दत्ता और सयाली भगत प्रतियोगिताओं के अंतिम दौर तक पहुंची पर खिताब से दूर ही रहीं। 12 साल बाद ही सही एशिया पैसेफिक का खिताब एक बार फिर भारत की झोली में आया है। भारत के लिए मिस एशिया पैसेफिक-2012 का खिताब हिमांगिनी सिंह ने जीता है। मिस एशिया पैसेफिक-2012 का फाइनल दक्षिण कोरिया के शहर बुसान में हुआ जहां हिमांगिनी ने भारत की दावेदारी पेश की।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.