jhansigangrapझांसी। उत्तर प्रदेश में झांसी जिले की रहने वाली एक दलित महिला के साथ पिछले साल बदमाशों ने उसके घर में घुसकर गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया था। इस वारदात के बाद आनन-फानन में आई प्रदेश की पुलिस ने आरोपियों को हिरासत में तो लिया था। लेकिन उन आरोपियों को एक दिन में ही छोड़ दिया गया थी। उनमें से दो आरोपी पीडित महिला और उसके पति को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। ऐसे में गुरुवार को महिला ने अपने पति के साथ इंसाफ के लिए एसएसपी ऑफिस पहुंची।

गैंगरेप होने से पहले आरोपियों ने की गंदी बातें

झांसी के एरच थानाक्षेत्र की रहने वाली महिला जो दो बच्चों की मां है। पिछले साल 16 अप्रैल को घर में अकेली थी। उसका पति किसी रिश्तेदार के यहां निमंत्रण खाने गया था। जब उसके पति रिश्तेदार के यहां जाने के लिए गांव से बाहर जा रहा था, तभी आरोपी जमुना प्रसाद और ज्ञान सिंह राजपूत ने देख लिया। पति को जाते हुए देखकर वे समझ गए कि उसकी पत्नि घर में अकेली होगी। और दोनों उसके घर में घुस गए। और घर में अकेली महिला से गंदी गंदी बातें कहने लगा। महिला ने शोर मचाना चाहा तो एक ने अपने हाथों से उसका मुंह बंद कर लिया और दूसरा उसके कपड़े फाडने लगा। इसके बाद दोनों ने बारी-बारी से महिला का रेप किया।

पति के उड गये होश

जब देर रात पति घर आया तो उसने अपने घर के बाहर से आवाज दी। जब जवाब नहीं मिला तो घर के अंदर घुसा। घर में अंधेरा पड़ा हुआ था। पति ने अपने मोबाइल की टॉर्च जलाकर देखा तो उसकी पत्नि जमीन पर नंगी पड़ी हुई थी। यह देख पति के होश उड़ गए। जब उस पीडित महिला से पूछा तब उसने अपनी सारी आपबीती बताई।

आरोपी पुलिस कस्टडी से बाहर

रात में ही उस महिला को लेकर उसका पति एरच थाने पहुंचा और पूरा मामला पुलिस को बताया। पुलिस आरोपियों को पकड़ लाई और रात भर थाने में रखा उसके बाद एसएसपी के कहने पर सुबह ही छोड़ दिया।

एसएसपी ने कहा कोर्ट में मामला गया

इस घटना को एक साल से ऊपर हो चुका है और आरोपी उस पीडित महिला और उसके पति को आए दिन जान से मारने की धमकी देते हैं। इसकी शिकायत करने के लिए महिला एसएसपी अब्दुल हमीद के पास पहुंची। मामला सुनकर एसएसपी ने कहा कि तुम घर जाओ अब कोई नहीं धमकी देगा। आपका मामला अभी कोर्ट में चल रहा है।

 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.