पाकिस्तान निवासी हिना शाहनवाज़ जिनकी 6 फरवरी को उन्हीं के एक रिश्तेदार द्वारा हत्या कर दी गई। और इस हत्या की वजह सुन आप भी हैरान रह जाएंगे। जीं, हां हिना के रिश्तेदार को उनका जॉब करना अच्छा नहीं लगा तो उसने हिना की हत्या कर दी।

फेसबुक पर इस पोस्ट को काफी शेयर किया जा रहा है। इस पोस्ट को देखकर पता चला कि पाकिस्तान के कोहत की रहने वाली 27 साल की हिना अपने परिवार को चलाने वाली इकलौती सदस्य थीं। कैंसर की वजह से उनके पिता का देहांत कुछ सालों पहले हो गया था। बताया जाता है कि कुछ साल पहले आपसी रंजिश की वजह से हिना के भाई का भी कत्ल कर दिया गया था। अब हिना के सिर पर अपनी मां और भाई के परिवार का जिम्मा आ गया था, इसके अलावा हिना अपनी विधवा बहन और उसके बच्चे की भी देखरेख कर रही थी। एक खबर के मुताबिक पुलिस ने जानकारी दी है कि हिना ने पेशावर में एम.फिल किया था और इसी के बाद से वह इस्लामाबाद में एक ग़ैर-सरकारी संगठन में काम कर रही थी।

एक तरफ हिना का यह संघर्ष जारी था, वहीं दूसरी तरफ उसके रिश्तेदारों को उसका काम करना पसंद नहीं आ रहा था। ऐसे में उसके चचेरे भाई के साथ उसकी तकरार हुई और गुस्से में आकर उसने हिना पर चार गोलियां दाग दी। इसके बाद से कोहत इलाके में प्रदर्शनकारी जमा हैं जो हिना के लिए इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं। इस मामले में पुलिस ने पांच लोगों को हिरासत में लिया है, वहीं मुख्य आरोपी फरार बताया जा रहा है। अब इस मामले को लेकर सोशल मीडिया पर भी #Justice_for_Hina_Shahnawaz के साथ एक मुहिम चलाई जा रही है। इसे सिर्फ पाकिस्तानी ही नहीं, दूसरे देशों के यूज़र भी साझा कर रहे हैं।

गौरतलब है कि पाकिस्तान में ऑनर किलिंग के नाम पर इस तरह की हत्या का यह पहला मामला नहीं है. इससे पहले पाकिस्तान की मशहूर हस्ती कंदील बलोच की हत्या का आरोप भी उनके पर लगा था. रूढि़वादी मुस्लिम देश पाकिस्‍तान में रहकर कंदील को सोशल मीडिया पर ‘खुलेपन’ वाले वीडियो और फोटो पोस्‍ट करने के लिए जाना जाता था. वे अपने बयानों को लेकर भी चर्चा में रहती थीं. कंदील के आरोपी भाई वसीम ने मीडिया से बातचीत में कहा भी था कि उसे अपनी बहन की हत्‍या पर कोई पछतावा नहीं है और कंदील ने मुस्लिम धर्मगुरु अब्‍दुल कवी के साथ सेल्‍फी सहित सोशल मीडिया पर कई फोटो पोस्‍ट कर परिवार की प्रतिष्ठा गिराई है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.