तुम जा रहे हो। जाते हुए तो बहुत याद आ रहे हो। मुझे बिना बताये समय की अलमारी से तुमने मेरी ढेर सारी यादें अपने सफर के लिए पैक कर ली हैं। लेकिन कुछ कड़वीं यादों के चिल्लर हैं जो मुझे अपनों के बिछड़ने और खोने से मिले हैं उसे मैने अपने लिए तुमसे बचा कर रखा है वो मैं तुम्हें नहीं ले जाने दूंगा। ह़ां तुम्हारे पास मेरे सपने गिरवी जरूर रखे हैं। तुम मेरे उन सपनों की चिंता मत करना उसे मैं जब्त नहीं होने दूंगा। वो सपने मैं खुद छुड़ाउंगा तुमसे न सही तुम्हारी संतानों से ही सही। मेरे पास अभी मुठ्ठी भर हौसले हैं जो मैने अपने कल के लिए बचा रखे हैं। उन्‍हें अभी खर्च नहीं करूंगा।
बातों बातों में मैं भूल ही गया कि तुम्हें जाने की जल्दी है और मुझे सुन भी नहीं रहे हो। यकीन मानों जाते हुए मैं तुम्हें कुछ सुनाना नहीं चाहता था लेकिन क्या करूं एक तुम ही तो हो जो मेरे सामने से जा रहे हो वरना सब मुझे अचानक ही छोड़ कर चले जाते हैं इसलिए तो तुम्हे जाने से पहले कितना कुछ सुना रहा हूं। अपने घर की बालकनी से तुम्हे जाते हुए देख रहा हूं। तुम कितना अकेले हो यह भी देख रहा हूं। तुम्हारे संग चौबीसों घंटे चिपकने वाले दिन,महीने व त्योहार किस तरह से तुम्हारा साथ छोड़ने को फडफड़ा रहे हैं। इन्हें मालूम है कि तुम चले जाओगे तो क्या जो नया आयेगा उसके साथ यह फिर से चिपक जायेंगे। जानता हूं कि तुमने अपने लिए कभी कुछ नहीं रखा जो जिसके हिस्से में था उसे बांट दिया। तुमने जिन्हें कुछ भी नहीं दिया बल्कि जिनसे तुमने बहुत कुछ छीना वो तुम्हें विदा करने की जल्दी में हैं यह तो समझ में आता है लेकिन जिनका दामन तुमने खुशियों से भरा। जिन्हें तुमने शिखर तक पहुंचाया जिनकी जिंदगी तुमने सुनहरे फ्रेम में मढ़ी वो भी तुमसे छुटकारा पाने की जल्दी में क्‍यो हैं हमारी समझ से परे हैं। बीते 15 दिनों से वह तुम्हें बोझ समझ कर ही तो ढो रहे हैं। सब तुम्हे निपटाने की जल्दी में हैं। खुशियों के सारे एसाइनमेंट आने वाले को अभी से मिल रहे हैं। जिसे लोग जानते भी नहीं। उसे न तो देखा और न ही मिले उसके स्वागत में सब पागल हुए जा रहे हैं। लेकिन तुम बिल्कुल भी चिंता मत करना। पूरी दुनिया चाहकर भी तुमसे खुद को अलग नहीं कर पायेगी। मुझे तुमसे कोई शिकायत नहीं है। मुश्किलें या परेशानियां मेरी बनाई हुई हैं तुम्हारी नहीं। मुझे तुमसे बेहद प्यार है। तुम मेरे जीवन का अब अटूट हिस्सा हो। घड़ी की सुईयां हमारे तुम्‍हारे बीच भले ही गड़ चुकी हों लेकिन कोई भी ताकत मुझे तुमसे अलग नहीं कर पायेगी। जीवन की किताब में एक पन्‍ना मैने तुम्‍हारे नाम जो कर दिया है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.