hajj

हज के लिए दुनिया भर के करीब 20 लाख लोग सऊदी अरब पहुंच गए हैं और पिछले साल की भगदड़ की घटना को देखते हुए इस बार ऐसी किसी भी अप्रिय घटना को रोकने नए कदम उठाए गए हैं। भगदड़ की घटना के बाद सऊदी अरब और ईरान के बीच तनाव बढ़ गया था और तीन दशक में ऐसा पहली बार है कि तेहरान ने अपने लोगों को इस बार हज पर नहीं भेजा है।

हज के अरकानों (रीतियों) की शुरुआत शनिवार से हो रही है। हज यात्रियों पहले ही काबा का तवाफ करना (चक्कर लगाना) शुरू कर दिया है। यहां लोगों के आने का सिलसिला जारी है। काबा में तवाफ करना हज के शुरूआती अरकानों में से एक है। हज इस्लाम धर्म के उन पांच प्रमुख स्तंभों में से एक है जिनको हर मुस्लिम के लिए फर्ज बताया गया है। शारीरिक, मानसिक और आर्थिक रूप से सक्षम मुस्लिम के लिए जीवन में एक बार हज करने को अनिवार्य करार दिया गया है। सऊदी प्रशासन ने पिछले साल की भगदड़ को देखते हुए इस बार सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। पिछले साल की भगदड़ में करीब 2,300 लोगों की मौत हो गई थी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.