अरबपति इंडस्ट्रियलिस्ट अजय पिरामल और अनलजीत सिंह ने वोडाफोन इंडिया में अपने शेयर वोडाफोन पीएलसी को बेच दिए हैं। इससे ब्रिटिश टेलीकॉम कंपनी का भारतीय सब्सिडियरी पर पूरा कंट्रोल हो जाएगा। अजय पिरामल ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी पिरामल एंटरप्राइजेज ने 10.97 पर्सेंट स्टेक 8,900 करोड़ रुपये में बेचा। वहीं, सिंह ने वोडाफोन इंडिया में अपने शेयर 1,241 करोड़ में बेचे हैं।

अजय पिरामल ने एक स्टेटमेंट में कहा, ‘वोडाफोन में स्टेक सेल से हमारे पास इस साल 10,000 करोड़ रुपये बढ़े हैं। अभी सभी कंपनियों को जहां कैश की कमी हो रही है, वहीं हमारे पास ज्यादा नकदी होने से नए रास्ते खुलेंगे। हम इस पैसे को फाइनैंशल सर्विसेज, हेल्थकेयर और इंफॉर्मेशन मैनेजमेंट बिजनेस में लगाएंगे।’ पिरामल एंटरप्राइजेज ने वोडाफोन इंडिया में अपने सारे शेयर 1,960 रुपये के भाव पर बेचे। इससे कंपनी को 3,000 करोड़ रुपये का फायदा हुआ है, जो दो साल में 52 पर्सेंट का रिटर्न है।

फार्मा से लेकर रियल एस्टेट सेक्टर तक में दखल रखने वाली कंपनी ने दो बार में वोडाफोन के शेयर खरीदे थे। उसने अगस्त 2011 और फरवरी 2012 में कंपनी में शेयर खरीदे थे। पिरामल एंटरप्राइजेज ने इसके लिए 1,290 रुपये प्रति शेयर के भाव पर 5,864 करोड़ रुपये में वोडाफोन इंडिया में हिस्सा खरीदा था। सिंह इस पैसे का इस्तेमाल मैक्स इंडिया में अपना स्टेक बढ़ाने में कर सकते हैं। इस मामले से वाकिफ एक सूत्र ने इकनॉमिक टाइम्स को यह जानकारी दी। सिंह मैक्स इंडिया के फाउंडर हैं।piramal

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.