Air India
Air India in loss

सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडियाको  अंतरराष्ट्रीय उड़ानों से लगातार नुकसान हो रहा है. गत तीन साल में कंपनी को इस परिचालन से 1700 करोड़ रुपये से ज्यादा का नुकसान हो चुका है. विमानन मंत्री अजित सिंह ने लोकसभा में एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी है.
उन्होंने बताया कि वित्त वर्ष 2009-10 में कंपनी को विदेशी उड़ानों से 539 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था. 2010-11 में यह बढ़कर 562 करोड़ रुपये हो गया.  2011-12 में इस परिचालन से एयरलाइंस को 604 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. अजित ने बताया कि चालू वित्त वर्ष की  अप्रैल-जून तिमाही में कंपनी को अंतरराष्ट्रीय परिचालन से 1,711.23 करोड़ रुपये की आय हुई. इस दौरान कंपनी की कुल लागत 2,626.15 करोड़ रुपये रही. एयर इंडिया को अंतरराष्ट्रीय परिचालन के सभी क्षेत्रों में नुकसान हुआ. अमेरिका, कनाडा और यूरोप की उड़ानों से  सबसे ज्यादा घाटा हुआ.
अमेरिका और यूरोप के परिचालन से वर्ष 2009-10 में 1078 करोड़, 2010-11 में 1707 करोड़ और 2011-12 में 596.9 करोड़ रुपये की आय हुई. इस दौरान इन उड़ानों पर कंपनी की लागत क्रमश: 2057 करोड़, 2,861 करोड़ और 983 करोड़ रुपये रही. विमानन मंत्री ने बताया कि कंपनी के प्रदर्शन में सुधार के लिए उड़ानों की समय सारणी में बदलाव, बोइंग 777-200 और 777-300 की उड़ानों की शुरुआत जैसे कई कदम उठाए गए हैं.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.