हिमाचल प्रदेश में मंडी लोकसभा सीट के अंतर्गत 26 गांवों ने बुधवार को चुनाव का बहिष्कार किया। गांववासी क्षेत्र में सामान्य सुविधाओं और विकास योजनाओं की कमी से नाराज थे। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की धर्मपत्नी प्रतिभा सिंह इस संसदीय सीट से प्रत्याशी हैं। जिला चुनाव अधिकारी और लाहौल. स्फीति के उपायुक्त बीर सिंह ने बताया कि लाहौल सब.डिविजन के कदट्वग और लबजुंग में और लाहौल स्फीति जिले के उदयपुर सब.डिविजन के छलिंग में मतदान के बहिष्कार के कारण एक भी वोट नहीं डाला गया। उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग द्वारा चुनाव बहिष्कार ना करने की अपील के बावजूद दोपहर तक उदयपुर के करपेट में 251 में से दस और जरूथ में 126 में से दो लोगों ने ही अपना वोट डाला। पांच गांवों के 783 वोटरों ने विकास की कमी के आधार परचुनाव का बहिष्कार किया। लाहौल सब.डिविजन के जिला मुख्यालय कैलोंग में ग्रामीणों ने सडक़ों से बर्फ ना हटाए जाने के विरोध में चुनाव का बहिष्कार किया। कुल्लू जिले के पदेरली गांव में बंजर स्पनील और बेरनी के मतदान केंद्रों पर भी ग्रामीणों ने चुनाव बहिष्कार किया। शिमला जिले के रामपुर में अनी सब डिविजन के 17 गांवों ने सडक़ों का निर्माण नहीं किए जाने के कारण मतदान में हिस्सा नहीं लिया। चवी जुबान और बिन्गुल ग्राम पंचायतों की निवासी बराला समुदाय ने उनके समुदाय को आरक्षित श्रेणी से हटाकर सामान्य श्रेणी में रखे जाने के विरोध में अपना वोट नहीं डाला। लाहौल.स्फीति में कुल 22581 मतदाता हैं। जिनमें से 11ण्300 महिला मतदाता हैं। स्फीति में बनाए गए 80 मतदान केन्द्रों में से हिककम विश्व का सबसे उकंचा मतदान केद्र है। इसकी समुद्रतल से ऊंचाई 15500 फुट है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.