चंडीगढ़ : अंबाला सिटी के नजदीक गुरुवार रात बरामद हुई स्कोर्पियो से पुलिस को फिजा के नाम से कटा मेडिकल स्टोर का बिल बरामद हुआ है। दरअसल यह कार पंजाब व हरियाणा हाई कोर्ट के एक वकील की है, जो उसने फिजा को कुछ समय के लिए दी थी। जब फिजा ने यह कार वापस नहीं की तो उसने चंडीगढ़ पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई थी। यह कार जब पुलिस को मिली तो उसका एक टायर पंचर था और वह कई जगह से क्षतिग्र्रस्त थी। पुलिस ने कार के संबंध में शनिवार को कई लोगों से पूछताछ की। शनिवार को फिजा के परिचित सलीम अल्वी मोहाली पहुंचे लेकिन पुलिस ने उनका बयान दर्ज नहीं किया।

हरियाणा के पूर्व उप मुख्यमंत्री चंद्रमोहन की पत्नी रहीं फिजा उर्फ अनुराधा बाली के परिचित सलीम अल्वी शनिवार को बुलंदशहर से मोहाली पहुंचे। अल्वी पेशे से रीयल एस्टेट एजेंट हैं और फिजा से उनकी पहली मुलाकात 23 जनवरी, 2010 को हुई थी। इसके बाद से वह फिजा के संपर्क में थे और वह उन्हें अपनी बहन मानते थे। अल्वी ने बताया कि फिजा को नौ अगस्त को बाबा रामदेव के आंदोलन में शामिल होना था और बुंदेलखंड में एक प्रेस कांफ्रेंस करनी थी। उनकी फिजा से आखरी बार बात एक अगस्त को शाम पांच बजे हुई थी। इस बातचीत में फिजा ने उन्हें जान का खतरा होने की बात कही थी। यह खतरा हरियाणा के एक नेता से होने के संकेत भी दिए थे।

सलीम ने बताया कि फिजा 2014 में होने वाला लोकसभा चुनाव लडऩे का भी मन बना चुकी थीं। हरियाणा की किसी सीट से उनका चुनाव लडऩे का इरादा था। अल्वी के अनुसार राष्ट्रीय महिला आयोग को फिजा की मौत की जांच सीबीआइ से कराने की मांग करनी चाहिए। अल्वी देर शाम तक जांचकर्ताओं से अपना बयान दर्ज करने की बात कहते रहे लेकिन पुलिस ने व्यस्तता का हवाला देकर बयान दर्ज नहीं किया। फिजा की मौत की जारी जांच में पुलिस अभी तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है। अब उसे बिसरा रिपोर्ट आने की प्रतीक्षा है|

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.