18_08_2013-17upsclogoयुवाओं के लिए खुशखबरी। सिविल सेवा के अभ्यर्थियों को इस वर्ष से इस प्रतिष्ठित परीक्षा में बैठने के लिए दो अतिरिक्त प्रयास के मौके मिलेंगे लेकिन उसके प्रारूप और पाठयक‎म में कोई परिवर्तन नहीं होगा। संघ लोकसेवा आयोग ने मंगलवार को कहा कि अभ्यर्थियों को इस बात का ध्यान रखना होगा कि सरकार ने सभी श्रेणी के उम्मीदवारों को दो अतिरिक्त मौके के साथ ही इसके परिणामस्वरूप आयु में छूट देने का फैसला किया है जो कि सिविल सेवा परीक्षा 2014 से प्रभावी होगी। यूपीएससी ने कहा कि सिविल सेवा परीक्षा के प्रारूप और पाठयक्रम में कोई परिवर्तन नहीं होगा। इस परीक्षा के लिए किसी भी अभ्यर्थी को अधिकतम चार मौके मिलते हैं। यद्यपि अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों के लिए मौकों पर कोई प्रतिबंध नहीं है। अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को इस परीक्षा में सात बार बैठने का मौका मिलता है। यह परीक्षा तीन स्तरों में कराई जाती है जिसमें प्रारंभिकए मुख्य और साक्षात्कार होता है। 2014 में यह परीक्षा 24 अगस्त को होनी है।जारी की गई अधिसूचना में उल्लेख के अनुसार इस परीक्षा में बैठने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम 30 वर्ष होनी चाहिए। अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों को आयु में पांच वर्ष की छूट है जबकि अन्य पिछड़े वर्ग के उम्मीदवार को तीन वर्ष की छूट है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.