उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर निर्माण कार्य का उद्घाटन करने के लिए राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निमंत्रण भेजा है। बुधवार को पत्रकारों से बातचीत में महंत नृत्य गोपाल दास ने कहा कि हमने पीएम मोदी को एक पत्र लिखा है, जिसमें उनसे अयोध्या का दौरा और राम मंदिर निर्माण गतिविधियों का उद्घाटन करने का अनुरोध किया गया है। उन्होंने कहा कि हम सुनिश्चित करेंगे कि कोई भीड़ न हो। दरअसल, संत चाहते हैं कि राम मंदिर का काम सावन के महीने में शुरू हो जाए। यह महीना छह जुलाई से शुरू होकर तीन अगस्त को समाप्त होगा।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को श्रीराम जन्म भूमि पर प्रस्तावित मंदिर निर्माण के भूमि पूजन के लिए पत्र भेजा गया है। बुधवार को महंत नृत्य गोपाल दास ने यह पत्र तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव एवं विहिप के केंद्रीय मंत्री चंपत राय को सौंपा। बताया जा रहा है कि मेल के माध्यम से यह पत्र चंपत राय ने प्रधानमंत्री तक भेज दिया है। पत्र में अपेक्षा जताई गई है कि प्रधानमंत्री भूमि पूजन के लिए जुलाई माह में समय निकालें या अगले माह पड़ रहे कृष्ण जन्मोत्सव तक भूमि पूजन करें। यदि यह संभव ना हो तो वह अपनी सुविधा के अनुसार और मंदिर निर्माण की शीघ्रता को ध्यान में रखकर भूमि पूजन की तिथि निर्धारित करें।

सुप्रीम कोर्ट में लंबे जद्दोजहद के बाद आए ऐतिहासिक फैसले से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की दिशा में काम तेजी से बढ़ा है। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने मंदिर निर्माण के लिए भूमि के समतलीकरण का काम पूरा कर लिया है। भूमि पूजन के लिए अयोध्या के साधु संतों से लेकर श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने पीएम मोदी को निमंत्रण पत्र भेजकर भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने की अपील की है, जिससे 2022 में रामनवमी का त्यौहार राललला के भव्य मंदिर में मनाया जाए। साधु संत चाहते हैं कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग या वर्चुअल तरीके से प्रधानमंत्री मोदी भूमि पूजन करने के बजाए वह खुद कार्यक्रम में शामिल होने के लिए अयोध्या आएं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.