केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति के विवादास्पद बयान पर उन्हें मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग पर विपक्ष अड़ गया है। इसको लेकर दूसरे दिन भी संसद में हंगामा हुआ और दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। राज्यसभा की कार्यवाही तो तीन बार स्थगित करनी पड़ी। तो दूसरी तरफ लोकसभा में विपक्ष की गैरमौजूदगी में ही विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेश दौरों का ब्योरा पेश किया।

राज्यसभा में विपक्षी सांसदों ने मंत्री को बर्खास्त करने और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग को लेकर जोरदार हंगाम किया। सीपीएम के सीताराम येचुरी ने कहा कि सिर्फ माफी मांग लेना स्वीकार्य नहीं है, साध्वी निरंजन के बयान से सरकार ने हमारा अपमान किया है। कांग्रेस ने संसद में मांग की कि साध्वी निरंजन ज्योति के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए।

लोकसभा में भी लगातार दूसरे दिन विपक्ष ने सरकार को घेरा और कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, लेफ्ट पार्टियों समेत विपक्षी दलों ने इस मंत्री को बर्खास्त करने और प्रधानमंत्री से जवाब देने की मांग की। प्रश्नकाल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में विपक्षी सदस्यों के शोर-शराबे के चलते सदन की कार्यवाही करीब 11 बजकर 37 मिनट पर पौने बारह बजे तक के लिए स्थगित भी करनी पड़ी।

कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘कल प्रधानमंत्री सदन में नहीं थे। आज प्रधानमंत्री आए हैं। एक मंत्री ने ऐसा बयान दिया और अपना अपराध मान लिया है। अब प्रधानमंत्री बताएं कि माफी मांगने वाले मंत्री पर क्या कार्रवाई की गई।’sadhvi

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.