सार्वजनिक जीवन में शिष्टचार की मर्यादाओं को लांघते श्रीसंत के सामने सचिन, राहुल जैसे खिलाड़ी भी हैं जिनके सामने महानता जैसे शब्द भी छोटे पड़ जाते हैं
सार्वजनिक जीवन में शिष्टाचार की मर्यादा लांघना अब एक शौक बन गया है। आईपीएल मैचों में शाहरुख ने मुम्बई के वानखेड़े स्टेडियम में सुरक्षा गार्ड के साथ गाली गलौज की थी। इस घटना के बाद ताजा मामला श्रीसंत का है। श्रीसंत पर आरोप है कि बेंगलुरु से दिल्ली जाते समय विमान में वह सीट को लेकर विमान के कर्मचारियों से ही उलझ गए थे। कर्मचारियों का कहना हैं कि श्रीसंत ने खुद को चोटिल बताया इसलिए उनसे विमान की उड़ान भरने तक किसी अन्य सीट पर बैठने के लिए कहा ताकि किसी तरह की आपात स्थिति में कोई परेशानी नहीं हो। श्रीसंत ने कर्मचारियों की नहीं मानी और उलझ पड़े। श्रीसंत और विमान कर्मचारियों की बहस विमान की उड़ान में 15 मिनट की देरी हुई। भारतीय क्रिकेट के सदस्य हैं श्रीसंत अपनी फिरकी से बल्लेबाजों को नचाने के साथ ही नृत्यकला में भी पारंगत हैं। श्रीसंत गेंदबाजी में अपने हुनर से ज्यादा विवादों से सुर्खियां बटोरते हैं। श्रीसंत ने अपने वनडे करिअर की शुरुआत 2005 में की थी। 2006 में वह टेस्ट टीम में भी शामिल हुए। अपने करिअर की शुरुआत में ही श्रीसंत दक्षिण अफ्रीकी टीम से उलझ गए। 15 दिसंबर 2006 को जोहानसबर्ग टेस्ट में डेल स्टेन की गेंद पर छक्का लगाने के बाद श्रीसंत ने मैदान पर डांस कर प्रतिक्रिया जताई थी। 2007 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू वनडे सीरीज के दौरान श्रीसंत एंड्रयू सायमंड्स से उलझे। इतना ही नहीं आईपीएल के पहले सत्र में श्रीसंत अपने से वरिष्ठï खिलाड़ी हरभजन सिंह पर टिप्पणी कर बैठे। भज्जी ने इसका जवाब एक जोरदार थप्पड़ लगाकर दिया। 2008 में हुए इस तमाचे के बाद श्रीसंत बच्चों की तरह रोते नजर आए थे। यह अलग बात है कि हरभजन सिंह को इस घटना के बाद फीस कटौती का दंड मिला था। 2008 में ही श्रीसंत बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा के साथ एक साबुन के प्रमोशन को लेकर विवादों में आए थे। 2010-11 के दक्षिण अफ्रीका दौरे पर श्रीसंत ने अपनी हदों को पार करते हुए मेजबान टीम के कप्तान ग्रीम स्मिथ और गेंदबाज पॉल हैरिस के परिवार पर अभद्र टिप्पणी की। आईपीएल के दूसरे सीजन में श्रीसंत चेन्नई सुपरकिंग्स के बल्लेबाज मैथ्यू हेडन से उलझ गए। हेडन ने श्रीसंत की गेंदों जम कर धुनाई की थी। जवाब में श्रीसंत ने उन्हें खरी-खोटी सुनाई। क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू पर यहां तक आरोप लगा था कि उन्होंने गुस्से में आकर अपने प्रशंसक को ही थप्पड़ मार दिया था जिससे उसकी मौत हो गई थी। क्रिकेट के सितारों को उनके शानदार प्रदर्शन के बाद आम जनता रातो रात स्टार बनाती है सिर आंखों पर बैठाती है वही जब सामने आते हैं तो जनता उनका छिपा हुआ असली रूप देखती है। सार्वजनिक जीवन में शिष्टïाचार की मर्यादाओं को लांघते श्रीसंत के सामने सचिन, राहुल जैसे खिलाड़ी भी हैं जिनके सामने महानता जैसे शब्द भी छोटे पड़ जाते हैं। बहस या फिर बयानबाजी से कोसो  दूर यह खिलाड़ी नवोदित खिलाडिय़ों के लिए सम्पूर्ण संस्था हैं जहां सिर्फ क्रिकेट ही नहीं जीवन के विभिन्न पहलुओं को करीब से जाना व समझा जा सकता है।

âç¿Ùâð·é¤ÀU Ìæðâè¹æðŸæèâ¢Ì

âæßüÁçÙ·¤ÁèßÙ×ð´çàæCïUæ¿æÚU ·¤è×ØæüÎæ¥æð´·¤æðÜ梃æÌðŸæèâ¢Ì·ð¤âæ×Ùðâç¿Ù, ÚUæãéUÜÁñâðç¹ÜæǸUèÖèãñ´U çÁÙ·ð¤âæ×Ùð×ãUæÙÌæÁñâðàæŽÎÖèÀUæðÅðU ÂǸU ÁæÌðãñ´U

âæßüÁçÙ·¤ÁèßÙ×ð´çàæcÅUæ¿æÚU ·¤è×ØæüÎæÜ梃æÙæ¥Õ°·¤àææñ·¤ÕÙ»ØæãñUÐ¥æ§üÂè°Ü×ñ¿æð´×ð´àææãUL¤¹Ùð×éÕ§ü·ð¤ßæÙ¹ðǸðU SÅðUçÇUØ××ð´âéÚUÿææ»æÇüU ·ð¤âæÍ»æÜè»ÜæñÁ·¤èÍèЧâƒæÅUÙæ·ð¤ÕæÎÌæÁæ×æ×ÜæŸæèâ¢Ì·¤æãñUПæèâ¢ÌÂÚU ¥æÚUæðÂãñç·¤Õð´»ÜéL¤âðçÎËÜèÁæÌðâ×Øçß×æÙ×ð´ßãU âèÅU ·¤æðÜð·¤ÚU çß×æٷ𤷤×ü¿æçÚUØæð´âðãUè©UÜÛæ»°Íðз¤×ü¿æçÚUØæ𴷤淤ãUÙæãñ´U ç·¤Ÿæèâ¢ÌÙð¹éη¤æð¿ôçÅUÜÕÌæØæ§âçÜ°©Ùâðçß×æÙ·¤è©Ç¸æÙÖÚUÙðÌ·¤ç·¤â襋ØâèÅU ÂÚU ÕñÆÙð·Ô¤çÜ°·¤ãUæÌæ緤緤âèÌÚUã·¤è¥æÂæÌçSÍçÌ×ð´·¤ô§üÂÚUðàææÙèÙãè´ãôПæèâ¢ÌÙð·¤×ü¿æçÚUØô´·¤èÙãUè´×æÙè¥æñÚU ©UÜÛæÂǸðUПæèâ¢Ì¥æñÚU çß×æÙ·¤×ü¿æçÚUØæð´·¤èÕãâçß×æÙ·¤è©Ç¸æÙ×ð´ vz ç×ÙÅU ·¤èÎðÚUèãé§üÐÖæÚUÌèØç·ý¤·ð¤ÅU ·ð¤âÎSØãñ´U Ÿæèâ¢Ì¥ÂÙèçȤÚU·¤èâðÕËÜðÕæÁæð´·¤æðÙ¿æÙð·ð¤âæÍãUèÙëˆØ·¤Üæ×ð´ÖèÂæÚ¢U»Ìãñ´UПæèâ¢Ì»ð´ÎÕæÁè×ð´¥ÂÙðãéUÙÚU âð…ØæÎæçßßæÎô´âðâéç¹üØæ¢ÕÅUæðÚUÌðãñ´UПæèâ´ÌÙð¥ÂÙðßÙÇð·¤çÚU¥ÚU ·¤èàæéL¤¥æÌ w®®z ×ð´·¤èÍèÐ w®®{ ×ð´ßãU ÅðUSÅU ÅUè××ð´Öèàææç×ÜãéU°Ð¥ÂÙð·¤çÚU¥ÚU ·¤èàæéL¤¥æÌ×ð´U ãUèŸæèâ´ÌÎçÿæ‡æ¥Èý¤è·¤èÅUè×âð©ÜÛæ»°Ð vz çÎâ´ÕÚU w®®{ ·¤ôÁôãæÙâÕ»üÅUðSÅU ×ð´ÇðÜ SÅUðÙ·¤è»ð´ÎÂÚU ÀU€·¤æÜ»æÙð·Ô¤ÕæΟæèâ´ÌÙð×ñÎæÙÂÚU Çæ´â·¤ÚU ÂýçÌç·ý¤ØæÁÌæ§üÍèÐ w®®| ×ð´¥æòSÅþðçÜØæ·Ô¤ç¹ÜæȤƒæÚUðÜêßÙÇðâèÚUèÁ·Ô¤ÎõÚUæÙŸæèâ´Ì°´ÇþØêâæØ×´Ç÷ââð©ÜÛæðЧÌÙæãUèÙãUè´¥æ§üÂè°Ü·Ô¤ÂãÜðâ˜æ×ð´Ÿæèâ´Ì¥ÂÙðâðßçÚUDïU ç¹ÜæǸUèãÚUÖÁÙçâ´ãÂÚU çÅUŒÂ‡æè·¤ÚU ÕñÆðÐÖ’ÁèÙð§â·¤æÁßæÕ°·¤ÁôÚUÎæÚU ÍŒÂǸܻ淤ÚU çÎØæÐ w®®} ×ð´ãé°§âÌ×æ¿ð·ð¤ÕæΟæèâ´ÌÕ‘¿ô´·¤èÌÚUãÚUôÌðÙÁÚU ¥æ°ÍðÐØãU ¥Ü»ÕæÌãñU ç·¤ãUÚUÖÁÙçâ¢ãU ·¤æð§âƒæÅUÙæ·ð¤ÕæÎȤèâ·¤ÅUæñÌè·¤æ΢ÇU ç×ÜæÍæÐ w®®} ×ð´ãèŸæèâ´ÌÕæòÜèßéÇ¥çÖÙð˜æèçÂýØ´·¤æ¿ôÂǸæ·Ô¤âæÍ°·¤âæÕéÙ·Ô¤Âý×ôàæÙ·¤ôÜð·¤ÚU çßßæÎô´×ð´¥æ°ÍðÐ w®v®-vv ·Ô¤Îçÿæ‡æ¥Èý¤è·¤æÎõÚUðÂÚU Ÿæèâ´ÌÙð¥ÂÙèãÎô´·¤ôÂæÚU ·¤ÚUÌðãé°×ðÁÕæÙÅUè×·Ô¤·¤ŒÌæÙ»ýè×çS×Í¥õÚU »ð´ÎÕæÁÂæòÜãñçÚUâ·Ô¤ÂçÚUßæÚU ÂÚU ¥ÖÎýçÅUŒÂ‡æè·¤èÐ¥æ§üÂè°Ü·Ô¤ÎêâÚUðâèÁÙ×ð´Ÿæèâ´Ì¿ðóæ§üâéÂÚUç·¤´‚â·Ô¤ÕËÜðÕæÁ×ñ‰ØêãðÇÙâð©ÜÛæ»°ÐãðÇÙÙðŸæèâ´Ì·¤è»ð´Îô´Á×·¤ÚU ÏéÙæ§ü·¤è‰æèÐÁßæÕ×ð´Ÿæèâ´ÌÙð©‹ãð´¹ÚUè¹ôÅUèâéÙæ§üÐç·ý¤·ð¤ÅUÚU ÙßÁæðÌçâ¢ãU çâhêÂÚU ØãUæ¢Ì·¤¥æÚUæðÂÜ»æÍæç·¤©U‹ãUæð´Ùð»éSâð×ð´¥æ·¤ÚU ¥ÂÙðÂýàæ¢â·¤·¤æðãUèÍŒÂǸU ×æÚU çÎØæÍæçÁââð©Uâ·¤è×æñÌãUæð»§üÍèÐç·ý¤·ð¤ÅU ·ð¤çâÌæÚUæð´·¤æð©UÙ·ð¤àææÙÎæÚU ÂýÎàæüÙ·ð¤ÕæÎ¥æ×ÁÙÌæÚUæÌæðÚUæÌ SÅUæÚU ÕÙæÌèãñU çâÚU ¥æ¢¹æð´ÂÚU ÕñÆUæÌèãñU ßãèÁÕâæ×Ùð¥æÌðãñ´U ÌæðÁÙÌæ©UÙ·¤æçÀUÂæãéU¥æ¥âÜè M¤ÂÎð¹ÌèãñUÐâæßüÁçÙ·¤ÁèßÙ×ð´çàæCïUæ¿æÚU ·¤è×ØæüÎæ¥æð´·¤æðÜ梃æÌðŸæèâ¢Ì·ð¤âæ×Ùðâç¿Ù, ÚUæãéUÜÁñâðç¹ÜæǸUèÖèãñ´U çÁÙ·ð¤âæ×Ùð×ãUæÙÌæÁñâðàæŽÎÖèÀUæðÅðU ÂǸU ÁæÌðãñ´UÐÕãUâØæçȤÚU ÕØæÙÕæÁèâð·¤æðâæð  ÎêÚU ØãU ç¹ÜæǸUèÙßæðçÎÌç¹ÜæçǸUØæð´·ð¤çÜ°âÂê‡æüâ¢SÍæãñ´U ÁãUæ¢çâÈü¤ç·ý¤·ð¤ÅU ãUèÙãUè´ÁèßÙ·ð¤çßçÖ‹ÙÂãUÜé¥æð´·¤æð·¤ÚUèÕâðÁæÙæßâ×ÛææÁæâ·¤ÌæãñUÐ

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.