पति ने पत्नी के यौन अंग को लॉक किया पत्नी ने जहर खाया’

जीवनसाथी के प्रति अमानवीय क्रूरता के मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने मंगलवार को 45 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। यह शख्स अपनी पत्नी के यौनांग पर कथित रूप से ताला लगाकर रखता था, क्योंकि उसे अपनी ब्याहता के चरित्र पर शक था।

शहर पुलिस अधीक्षक राजेश रघुवंशी ने बताया कि रोंगटे खड़े कर देने वाले इस मामले का खुलासा तब हुआ, जब लम्बे वक्त से अपने पति की कथित क्रूरता झेल रही 38 वर्षीय रोमा (बदला हुआ नाम) ने आखिरकार तंग आकर जान देने की कोशिश की।

रघुवंशी ने बताया, रोमा ने जहर खा लिया था। जब कल 16 जुलाई को इस महिला को महाराजा यशवंतराव अस्पताल में भर्ती कराया गया, तो डॉक्टरों को जांच के दौरान पता चला कि उसके पति सोहनलाल ने उसके यौनांग में ताला लगा रखा था।

उन्होंने बताया कि सोहनलाल (45) की क्रूरता की जानकारी मिलने के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। उससे कड़ाई से पूछताछ की जा रही है। आरोपी पेशे से मैकेनिक है और एक ऑटो गैरेज में काम करता है।

रघुवंशी ने मामले की शुरुआती जांच के हवाले से बताया कि संयोगितागंज क्षेत्र में रहने वाले सोहनलाल ने चार साल पहले एक नुकीले औजार से अपनी पत्नी के यौनांग में कथित तौर पर छेद किया, ताकि वह उस पर ताला जड़ सके।

उन्होंने बताया, हमें जांच में पता चला है कि सोहनलाल ने ऐसा इसलिये किया, क्योंकि उसे शक था कि उसकी पत्नी का चरित्र ठीक नहीं है।

रघुवंशी के मुताबिक आरोपी रोज सुबह काम पर जाने से पहले अपनी पत्नी के यौनांग पर ताला लगा देता था। रात को काम से लौटने के बाद वह यह ताला खोल देता था। सोहनलाल इस ताले की चाबी हमेशा अपने पास रखता था।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी नशे का आदी है और सेक्स को लेकर दिमागी विकृति का शिकार लगता है। पुलिस को उसके खिलाफ यह शिकायत भी मिली है कि वह अपनी बेटी पर भी बुरी नजर रखता था।

संयोगितागंज पुलिस थाने के प्रभारी शैलेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि सोहनलाल के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 498 क (पत्नी पर पति की क्रूरता) और अन्य संबद्ध धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि पुलिस मामले में डॉक्टरों की रिपोर्ट का भी इंतजार कर रही है।

इस बीच, मध्यप्रदेश महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष डॉक्टर सविता इनामदार ने इस घटना की तीखी निंदा करते हुए कहा कि यह घटना आरोपी की कायरता और मानसिक बीमारी की ओर सीधा इशारा करती है। उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिये, क्योंकि उसने अपनी पत्नी के यौनांग पर ताला जड़कर उसकी अस्मिता की हत्या भी कर दी है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के कुछ ग्रामीण इलाकों में करीब 50 साल पहले ऐसी घटनाएं सामने आती रही हैं। लेकिन आज के आधुनिक समाज में इंदौर जैसे बड़े शहर में ऐसी घटना के खुलासे ने जमीनी स्तर पर महिलाओं की मौजूदा स्थिति को लेकर बड़े सवाल खड़े कर दिये हैं|

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.