लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने वन निगम को विभिन्न जनपदों में अलाव जलाने की व्यवस्था करने के निर्देश दिये हैं। यह जानकारी बुधवार को राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि वन निगम द्वारा अलाव जलाने की व्यवस्था राहत आयुक्त के स्तर से किये गये प्रबन्धों के अतिरिक्त होगी। वन निगम द्वारा अलाव जलाने की व्यवस्था गुरुवार से प्रारम्भ होकर शीत लहर जारी रहने तक लागू रहेगी। प्रवक्ता के अनुसार राज्य के 30 जनपदों-सहारनपुर, मुरादाबाद, रामपुर, बिजनौर, मेरठ मुजफ्फरनगर, आगरा, इटावा, मैनपुरी, कन्नौज, एटा, बरेली, शाहजहाँपुर, पीलीभीत, लखीमपुरखीरी, कानपुर, लखनऊ, रायबरेली, सुल्तानपुर, बहराइच, फैजाबाद, गोरखपुर, आजमगढ़, बस्ती, वाराणसी, इलाहाबाद, मिर्जापुर, जौनपुर, झांसी व चित्रकूट के 58 स्थलों पर अलाव की व्यवस्था की जाएगी। इन स्थानों पर अलाव जलाने की व्यवस्था निगम के सम्बन्धित प्रभागीय विक्रय प्रबन्धक/विक्रय अधिकारी द्वारा की जाएगी। प्रवक्ता ने बताया कि अलाव जलाने का कार्य रात्रि 8:00 बजे से प्रारम्भ होकर प्रात: 6:00 बजे तक वन निगम के स्टाफ की उपस्थिति में किया जाएगा। प्रत्येक अलाव स्थल पर 0़5 कुन्टल जलौनी लकड़ी प्रति रात्रि उपयोग में लाई जाएगी।
जिस तिथि को यह सुविधा बन्द की जाएगी, सम्बन्धित प्रभागीय विक्रय प्रबन्धक एवं विक्रय अधिकारी द्वारा वन निगम मुख्यालय पर महाप्रबन्धक (विपणन) अथवा विपणन अधिकारी को उनके मोबाइल नम्बर पर तथा फैक्स/ई-मेल द्वारा लिखित रूप से इसकी सूचना देनी होगी। अलाव स्थल का चयन सम्बन्धित प्रभागीय विक्रय प्रबन्धक द्वारा उप जिलाधिकारी की सहमति से किया जाएगा। अलाव जलाने का कार्य प्रारम्भ करने एवं बन्द करने की सूचना स्थानीय प्रशासन के साथ-साथ वन निगम मुख्यालय को भी दी जाएगी। images

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.