बरेली। लॉकडाउन में पुलिस की सख्ती का सबसे ज्यादा असर पशुओं के चारे की आपूर्ति पर पड़ा है। पशुओं के चारे की गाड़ियों की आवाजाही को पाबंदी से बाहर रखने के बावजूद पुलिस रोक रही है। बरेली के ज्यादातर पशुपालकों के यहां चारा खत्म हो गया है। पशु भुखमरी की कगार पर हैं। डेयरी चलाने वालों ने डीएम को पुलिस के रवैया से डीएम को रूबरू कराया। डीएम ने सीवीओ को जरूरी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सीवीओ ने पशु चारे की गाड़ियों को ना रोकने के निर्देश जारी कर दिए हैं। पुलिस और प्रशासनिक अफसरों को निर्देश की कॉपी व्हाट्सएप पर भेज दी है। शासन ने लॉकडाउन के दौरान पशुओं की आपूर्ति को निर्बाध बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। पशु चारे की आपूर्ति करने वाली गाड़ियों की बेरोकटोक आवाजाही की छूट दी है। बरेली की पुलिस की समझ में शासन के निर्देश नहीं आए। देहात से आने वाली भूसे और हरे चारे की गाड़ियों को रोक लिया गया। कई दिन परेशान होने के बाद गांव वालों ने शहर में चारा लाना बंद कर दिया। इसका सीधा असर डेयरी वालों पर पड़ा है। शहर की ज्यादातर डेयरियों में पशुओं का चारा खत्म हो गया है। ऐसा ही हाल घरों में पशु पालने वालों का भी है। शहर में चारे की आपूर्ति न होने से दिक्कत गंभीर हो गई है।

डेयरी वालों ने बयां किया दर्द
सपा के पूर्व मंत्री भगवत सरन गंगवार ने पशुओं के चारे की किल्लत से डीएम को रूबरू कराया। हमने पशुओं के चारे की आपूर्ति करने वाली गाड़ियों आवाजाही सुचारू रूप से कराने का भरोसा दिया। चेत गोटिया लाल फाटक में सबसे अधिक डेरियां हैं। यहां से शहर के ज्यादातर हिस्सों में दूध की आपूर्ति की जाती है। इन दिनों डेयरी वालों का हाल बुरा है। चारे की आपूर्ति को लेकर परेशान हैं। डेयरी संचालकों ने बताया कि उनके पास 1 दिन का भी चारा नहीं बचा है। पशु भूख से मर भी सकते हैं। रिठौरा मंडी से नहीं आ पा रहीं छोटी गाड़ियां रिठौरा की भूसा मंडी से शहर के ज्यादातर पशुपालक भूसा मंगाते हैं। छोटी छोटी गाड़ियों से रिठौरा से भूसा शहर में आता है। शहर में गाड़ियों की एंट्री बंद होने से रिठौरा मंडी से भूसा नहीं आ पा रहा। नहीं मिल पा रहा चोकर भी पशुओं को भूसे के साथ-साथ चोकर भी नहीं मिल पा रहा। शहामत गंज मंडी में चोकर की भारी कमी हो गई है। मंडी में आने वाले चोकर की गाड़ियां जहां-तहां फंसी हुई हैं। 1000 रुपए की मिलने वाली चोकर की बोरी के दाम 12 सौ कर दिए गए हैं।

पशुओं के चारे की आपूर्ति करने वाली गाड़ियों को पाबंदी से बाहर रखा गया है। उनकी आवाजाही पर रोक नहीं है। निर्देश जारी कर दिए हैं। प्रशासनिक और पुलिस अफसरों को निर्देश की कॉपी दी है। – एलके वर्मा, सीवीओ 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.