yashoda benनरेंद्र मोदी पर निशाना साधने के लिए उनके विरोधी उनकी पत्नी का नाम भी राजनीतिक बहस में खींच रहे हैं लेकिन जशोदाबेन गुजरात के मुख्यमंत्री से सालों तक अलग रहने के बाद भी उनके प्रधानमंत्री बनने के लिए व्रत और प्रार्थना कर रहीं हैं
जशोदाबेन के भाई कमलेश ने बताया कि 62 वर्षीय जशोदाबेन ने संकल्प लिया है कि जब तक अपने पति को प्रधानमंत्री की कुर्सी पर नहीं देख लेंगी वह चावल नहीं खाएंगी और नंगे पैर रहेंगीण् सेवानिवृत्त शिक्षिका जशोदाबेन के भाई ने बतायाए ष्जशोदाबेन दिल से चाहती हैं कि वह ;मोदी एक मुख्यमंत्री होते हुए देश के प्रधानमंत्री बनें् वह इसके लिए प्रार्थना कर रहीं हैंण्ष् जशोदाबेन अपनी इस इच्छा की पूर्ति के लिए इस समय बद्रीनाथए केदारनाथए गंगोत्री और यमुनोत्री की चारधाम की यात्रा पर निकली हैं।
अपने दो भाइयों के साथ उत्तर गुजरात के मेहसाणा जिले के ईश्वरवाड़ा गांव में रहने वाली जशोदाबेन के परिवार के अनुसार वह गंभीर प्रवृत्ति की महिला हैं और सादा जीवनशैली अपनाती हैं।
कमलेश के मुताबिकए ष्वह सुबह जल्दी उठती हैंए प्रार्थना करती हैं और मंदिर जाती हैंण् इसके बाद वह अपनी दैनिक चर्या में व्यस्त हो जाती हैंण् वह खबरें भी पढ़ती हैं और मोदी के बारे में अखबारों में आने वाली सभी खबरें देखती हैंण्ष् उन्होंने कहाए अगर कोई मोदी के खिलाफ गलत बात करता है तो वह उसे बर्दाश्त नहीं कर पातींण् वैसे तो वह बहुत नम्र स्वभाव की हैं और किसी के खिलाफ कभी आवाज नहीं उठातींण्ष्
अपने चार भाई.बहनों में सबसे बड़ीं जशोदाबेन की शादी 1968 में 17 साल की उम्र में मोदी से कर दी गयी थीण् गुजरात की एक साप्ताहिक पत्रिका में प्रकाशित इंटरव्यू में जशोदाबेन ने कहा था कि दोनों बहुत कम समय साथ रहे थेण् विवरण मिलता है कि मोदी अपनी शादी के कुछ ही समय बाद घर छोडक़र चले गये और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक बन गयेण् मोदी ने जशोदाबेन को आगे पढ़ाई करने के लिए प्रोत्साहित किया था जिसके चलते उन्होंने प्रारंभिक शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम किया और उन्हें नौकरी मिल गयीण् मोदी के बड़े भाई सोमभाई ने गुरुवार को कहा था कि मोदी की जशोदाबेन से शादी एक सामाजिक औपचारिकता हो गयी थी
सोमभाई ने कहा थाए ष्हमारे माता.पिता बहुत ज्यादा नहीं पढ़े थे और हमारा परिवार गरीब थाण् उनके लिए नरेंद्र मोदी अन्य किसी बच्चे की तरह ही थेण् इसी तरह से हमारे माता.पिता ने उनकी शादी छोटी उम्र में जशोदाबेन से करा दी लेकिन यह केवल एक सामाजिक औपचारिकता बनकर रह गयीण्ष् मोदी ने वड़ोदरा लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल करते समय अपने हलफनामे में पहली बार अपने शादीशुदा होने का उल्लेख किया है और पत्नी के खाने में जशोदाबेन का नाम लिखा हैण्
भाजपा नेता की इस स्वीकारोक्ति के बाद से ही विरोधी दलों के तमाम नेता उन्हें आड़े हाथ ले रहे हैं और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी जम्मू कश्मीर के डोडा में अपनी रैली में अब तक पत्नी का नाम सार्वजनिक नहीं करने को लेकर मोदी पर निशाना साधा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.